प्रमुख सचिव के सामने शिविर में बरपा हंगामा:विधवा की भूमि का नामांतरण नहीं खुलने व योजनाओं का लाभ नहीं मिलने की शिकायत पर हुई नोक-झोंक, प्रिंसिपल सेक्रेटरी के पूछने पर अधिकारी सकपका गए

दौसा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दौसा की गुढ़लिया ग्राम पंचायत के शिविर में हंगामा करते लोग। - Dainik Bhaskar
दौसा की गुढ़लिया ग्राम पंचायत के शिविर में हंगामा करते लोग।

पर्यटन व कला संस्कृति विभाग की प्रमुख शासन सचिव गायत्री राठौड बुधवार को दौसा जिले के दौरे पर रहीं। उन्होंने बिशपुरा व गुढ़लिया ग्राम पंचायत में प्रशासन गांवों के संग तथा बांदीकुई नगर पालिका में प्रशासन शहरों के संग अभियान का निरीक्षण किया। प्रमुख सचिव के विजिट के दौरान गुढलिया पंचायत में लग रहे प्रशासन गांवों के संग शिविर में लोगों ने हंगामा कर दिया।

प्रमुख सचिव द्वारा ग्रामीणों की शिकायत की सुनवाई करने के बाद मामला शांत हुआ। हुआ यूं कि पंचायत क्षेत्र की रहने वाली एक महिला के पति व ससुर की मौत हो जाने के बावजूद उसकी जमीन का नामांतरण नहीं खुला और सरकार की योजनाओं का लाभ भी उसे नहीं मिल रहा जिसके लिए वह शिविर में गुहार लगाने के लिए आई हुई थी।

इसी दौरान प्रमुख सचिव व कलेक्टर पीयूष समारिया भी शिविर में पहुंच गए। स्थानीय लोगों ने महिला की समस्या उन्हें बताते हुए स्थानीय प्रशासन पर सुनवाई नहीं करने के आरोप लगाए जहां आपसी टोका-टोकी के बाद मामला हंगामे में बदल गया। शिविर में काफी देर नोकझोंक होने के बाद प्रमुख सचिव व कलेक्टर ने महिला से पूरे मामले की जानकारी ली व शिविर में मौजूद स्थानीय अधिकारियों को तत्काल कार्रवाई के निर्देश दिए। इसके साथ ही सड़कों के खस्ताहाल पर सार्वजनिक निर्माण विभाग के अभियंताओं को फटकार लगाई। स्थानीय लोगों को कुण्डल मार्ग पर परिवहन के लिए बस सेवा शुरू करने की मांग की।

गुढ़लिया में महिला की शिकायत सुनती प्रमुख सचिव।
गुढ़लिया में महिला की शिकायत सुनती प्रमुख सचिव।

नगर पालिका में किया औचक निरीक्षण
इसके बाद प्रमुख सचिव व कलेक्टर बांदीकुई पहुंचे, जहां उन्होंने नगरपालिका में चल रहे प्रशासन शहरों के संग शिविर का औचक निरीक्षण किया। शिविर में सभी विभागों द्वारा लगाई गई स्टॉल का निरीक्षण करते हुए प्रमुख सचिव ने विभागीय अधिकारियों से सवाल-जवाब किए तो कई अधिकारी जवाब देते सकपका गए। प्रमुख सचिव ने अधिकारियों को लापरवाही नहीं बरतने के सख्त निर्देश दिए।

खबरें और भी हैं...