पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Dausa
  • Two Members Of The Gang Arrested For Earning Huge Money On The Pretext Of A Job, Used To Solve The Paper By Taking It To A Secret Place Before The Exam

REET-NEET, SI का पेपर बेचते पकड़े गए:परीक्षा से पहले गोपनीय जगह ले जाकर करवाते थे तैयारी, मोटी रकम के बदले पास करवाने की गारंटी, SOG के इनपुट पर दो गिरफ्तार

दौसा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दौसा पुलिस की गिरफ्त में पेपर बेचने वाले गिरोह के दो सदस्य। - Dainik Bhaskar
दौसा पुलिस की गिरफ्त में पेपर बेचने वाले गिरोह के दो सदस्य।

पुलिस ने प्रतियोगी परीक्षाओं में सेलेक्शन कराने का झांसा देकर बेरोजगार युवकों के साथ ठगी करने वाले गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार किया है। जयपुर एसओजी से मिले इनपुट के बाद गठित जिला पुलिस की विशेष टीम ने इस पूरी कार्रवाई को अंजाम दिया। रविवार को दोनों युवकों की गिरफ्तारी के बाद पेपर बेचने वाले गिरोह का भी खुलासा हो सकता है। रविवार को पूरे मामले का खुलासा करते हुए एसपी अनिल बेनीवाल ने बताया कि आगामी दिनों में होने वाली कई प्रतियोगी परीक्षाओं के अवैध रूप से पेपर दिलाने का झांसा देकर मोटी रकम ऐंठने वाले गिरोह के संबंध में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप से इनपुट मिला था। इसके बाद अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक लालचंद कायल व जिला विशेष टीम के अजीत बड़सरा की पुलिस टीम ने गहन छानबीन करते हुए गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया।

छात्रों के ओरिजिनल डॉक्यूमेंट बरामद

एसपी ने बताया कि गिरफ्तार एक आरोपी जिले के ही सिकंदरा थाना क्षेत्र के पाटन गांव निवासी विजेंद्र मीणा को दौसा दूध डेयरी के सामने से व दूसरा आरोपी रामगढ़ पचवारा थाना क्षेत्र के बासड़ा गांव निवासी यादराम मीणा को लालसोट क्षेत्र से दबोचकर कोतवाली पुलिस को सुपुर्द कर दिया है। पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों के पास से कई अभ्यर्थियों के ओरिजिनल शैक्षणिक डॉक्यूमेंट भी बरामद किए हैं। आरोपियों को गिरफ्तार करने में जिला पुलिस की 9 सदस्यों की विशेष टीम को सफलता मिली है।

एडवांस रकम लेकर हल करवाते हैं पेपर

एसपी ने बताया कि राज्य में आगामी दिनों में जेईएन, पुलिस एसआई, नीट, रेलवे, रीट व एसएससी समेत कई भर्तियों की प्रतियोगी परीक्षाएं आयोजित होने वाली हैं। ऐसे में आरोपियों द्वारा इन भर्तियों में चयन कराने व अवैध रूप से पेपर दिलवाने का झांसा देकर बेरोजगार युवकों से पहले उनके ओरिजिनल डॉक्यूमेंट व एडवांस रकम ली जाती है। इसके बाद परीक्षा से एक दिन पहले अभ्यर्थी को किसी गुप्त जगह ले जाकर पेपर हल कराया जाता है तथा गारंटी पूर्वक चयन कराने का झांसा दिया जाता है। पुलिस मामले की गहनता से पड़ताल में जुट गई है।

गिरोह का हो सकता है भंडाफोड़

अवैध रूप से पेपर बेचकर मोटी रकम ऐठने वाले गिरोह के दो सदस्य गिरफ्तार करने के बाद अब सबसे बड़ा सवाल यह उठ रहा है कि आखिरकार भर्तियों के पेपर इतनी सुरक्षा के बावजूद कैसे बाहर आ जाते हैं। इसे लेकर एसओजी द्वारा पड़ताल शुरू कर दी गई है। गिरफ्तार आरोपियों से भी गिरोह के अन्य सदस्यों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।

खबरें और भी हैं...