कोरोना से महिला की मौत:पेट दर्द की शिकायत पर जयपुर में एक प्राइवेट अस्पताल में कराया था भर्ती, जांच में हुई कोरोना की पुष्टि

दौसा7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दौसा सीएमएचओ डॉ. सुभा बिलोनिया की मौजूदगी में वैक्सीनेशन करती मेडिकल टीम। - Dainik Bhaskar
दौसा सीएमएचओ डॉ. सुभा बिलोनिया की मौजूदगी में वैक्सीनेशन करती मेडिकल टीम।

जिले में कोरोना का कहर बढ़ता जा रहा है। वैक्सीन की दोनों डोज लगने के बावजूद कोरोना से एक महिला की मौत हो गई। इससे पहले भी जिले में कोरोना से 3 लोगों की मौत हो चुकी है।

कोरोना से बिवाई गांव की लाड़बाई बैरवा (50) की मौत हो गई। परिजनों ने बताया कि लाड़बाई का 8 जनवरी को बांदीकुई के एक प्राइवेट अस्पताल में आंख का ऑपरेशन हुआ था। 15 जनवरी को महिला के पेट में दर्ज हुआ तो जयपुर में जेएनयू अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसके कोरोना होने की पुष्टि हुई। अगले दिन उसने दम तोड़ दिया। उसे वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी थी। मृतक गांव में ही मजदूरी करती थी।

ग्रामीण इलाकों में ज्यादा पॉजिटिव
जिले में 1 से 20 जनवरी तक 1166 लोग कोरोना पॉजिटिव आए हैं। इसमें 806 पुरुष और 360 महिलाएं हैं। तीसरी लहर में 589 शहरी क्षेत्र में तो 600 पॉजिटिव ग्रामीण इलाकों में निकले हैं। इनमें 500 रिकवर भी हुए हैं। शहरी व ग्रामीण एरिया में पॉजिटिव आंकड़े देखें तो दौसा व महुवा शहर में पॉजिटिव ज्यादा हैं। जबकि ग्रामीण क्षेत्र के बांदीकुई व लालसोट में अधिक पॉजिटिव मिले हैं। शहरी क्षेत्र में दौसा में 219, महुवा में 122 पॉजिटिव और ग्रामीण एरिया में बांदीकुई में 107 व लालसोट में 207 पॉजिटिव आए हैं।

5 संक्रमित जयपुर में भर्ती
​जिले में अब एक्टिव केस 830 हैं, जिसमें 825 संक्रमित होम आइसोलेट हैं। सिर्फ 5 मरीज जयपुर में भर्ती हैं। शुक्रवार को पॉजिटिविटी दर 6.51 फीसदी रही, जबकि रिकवरी दर 93.99 प्रतिशत है। यहां कोरोना संक्रमण शहरों के मुकाबले गांवों में तेजी से पैर पसार रहा है, लेकिन पाबंदी सिर्फ शहरी क्षेत्र तक सीमित है। ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों में टीचर्स व बालक भी संक्रमित हो रहे हैं, लेकिन प्रशासन का इस ओर कोई ध्यान नहीं है।

खबरें और भी हैं...