सुविधा / नागदा और मथुरा के बीच अब मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें भी दौड़ेंगी 130 की रफ्तार से

X

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

गंगापुर सिटी. नागदा और मथुरा के बीच अब मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें भी अधिकतम 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ेंगी। पश्चिम-मध्य रेलवे के जबलपुर मुख्यालय की ओर से इस बारे में आदेश जारी किए गए हैं। फिलहाल जर्मन कंपनी की तकनीक से बने लिंक हाफ मैन बुश (एलएचबी) कोचों वाली ट्रेनों को ही 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ने की अनुमति दी गई है। कोटा मंडल से गुजरने वाली अधिकतर ट्रेनों में एलएचबी कोच लगाए जा चुके हैं। अन्य ट्रेनों में भी जल्द एलएचबी कोच लगाए जाने की तैयारी की जा रही है। ट्रेनों की रफ्तार बढ़ने से यात्रियों के समय की बचत हो सकेगी। इस आदेश को कोटा मंडल के लिए मिल का पत्थर माना जा रहा है। कोटा मंडल में अभी राजधानी एक्सप्रेस ही अधिकतम 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ती है।
2022 तक रफ्तार दोगुनी करने का लक्ष्य
रेलवे ने 2022 तक ट्रेनों की औसत रफ्तार दोगुनी करने का लक्ष्य तय किया है। साथ ही रेलवे की योजना ट्रेनों की गति 25 किलोमीटर प्रति घंटा बढ़ाने की भी है। रेलवे की ओर से इस पर मिशन रफ्तार के तहत तेजी से काम किया जा रहा है। इस संबंध में रेलमंत्री ने जोनल महाप्रबंधकों को इसके विशेष आदेश भी जारी कर चुके हैं। देश में मालगाडिय़ों की औसत रफ्तार 22 तथा यात्री ट्रेनों की औसत रफ्तार 47 किलोमीटर प्रतिघंटा है। इनमें राजधानी, शताब्दी, दूरंतो जैसी गाडिय़ों को शामिल कर लें तो सवारी गाड़ी की औसत गति 50 किलोमीटर प्रति घंटा आती है। सरकार मेल व एक्सप्रेस ट्रेनों की औसत गति करना चाहती है। इसके अलावा रेलवे की ओर से राजधानी, शताब्दी और दूरंतो की रफ्तार भी बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे है। रफ्तार बढ़ाकर इन ट्रेनों को सरकार सेमी हाई स्पीड श्रेणी में लाना चाहती है। ट्रेनों की रफ्तार बढ़ने से परिचालन लागत कम होती है। साथ ही राजस्व भी बढ़ता है। मंडल रेल प्रबंधक पंकज शर्मा के अनुसार आदेश आए है। जल्द ही मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ने लगेंगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना