रेलवे कर्मचारियों का विरोध-प्रदर्शन:यूनियन के मंडल उपाध्यक्ष ने कहा-केंद्र सरकार की रेलवे मुद्रीकरण की नीति से रेल उद्योग हो जाएगा बर्बाद,कर्मचारी एकजुट होकर करें संघर्ष

गंगापुर सिटी12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदर्शन करते रेलवे कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
प्रदर्शन करते रेलवे कर्मचारी।

केंद्र सरकार की रेलवे मुद्रीकरण की नीति का विरोध करते हुए कर्मचारियों ने विरोध-प्रदर्शन किया। वेस्ट सेंट्रल रेलवे एम्प्लाइज यूनियन के आह्वान पर रेलकर्मी जागरण अभियान चलाया जा रहा है। गंगापुर सिटी रेलवे अस्पताल में कर्मचारियों को संबोधित करते हुए यूनियन के मंडल उपाध्यक्ष नरेंद्र जैन ने कहा कि मुद्रीकरण नीति से रेल उद्योग हो जाएगा बर्बाद हो जाएगा।

यूनियन के मंडल उपाध्यक्ष नरेंद्र जैन ने कहा कि मुद्रीकरण की नीति की आड़ में अभी 400 रेलवे स्टेशन, 90 यात्री गाड़ियों, एक 1400 किलोमीटर लंबे रेलवे ट्रैक, 265 गुड्स शेड,741 किलोमीटर लंबे कोंकण रेलवे,चार पहाड़ी स्टेशनों, 673 किलोमीटर लंबे डेडीकेटेड फ्रंट कॉरिडोर,15 रेलवे स्टेडियम तथा रेलवे कॉलोनी को लीज पर देने की योजना बनाई गई है। उन्होंने कहा कि सरकार अपनी योजना में सफल हो जाती है तो रेल उद्योग बर्बाद हो जाएगा। रेल कर्मचारियों को इसके खिलाफ एकजुट होकर संघर्ष करना होगा।

स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विभाग के कर्मचारियों ने बताया कि उनके आवधिक पदोन्नति के आदेश जारी होने के बाद भी उनके एरियर का भुगतान नहीं किया जा रहा है। ड्यूटी पर काम आने वाले उपकरण जैसे बरसाती पानी की बोतल कचरा उठाने की टोकरी ग्लब्ज, मास्क आदि का वितरण नहीं किया जा रहा है। विभाग में कई रिक्त पदों को भी भरने की मांग कर्मचारियों ने की। इस अवसर पर यूनियन के पदाधिकारियों ने समस्याओं के निराकरण के लिए शीघ्र कार्रवाई करने का आश्वासन दिया।

इस दौरान कैरीज शाखा के अध्यक्ष गजानंद शर्मा, लोको शाखा के सचिव राजेश चाहर ,केरीज शाखा के कार्यकारी अध्यक्ष शरीफ मोहम्मद, गणेश पाल मीना ,हरिमोहन गुर्जर, इमरान खान, संतोष झा ,पदम सिंह सहित कई पदाधिकारी एवं दर्जनों कर्मचारी उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...