जमीनी विवाद में भिड़े दो पक्ष, 10 घायल:एक-दूसरे पर धारदार हथियार और लाठियों से किया हमला, 1 व्यक्ति गिरफ्तार

हिंडौन सिटीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अस्पताल में भर्ती घायल महिला। दो घायलों को जयपुर रेफर किया। - Dainik Bhaskar
अस्पताल में भर्ती घायल महिला। दो घायलों को जयपुर रेफर किया।

हिंडौन सिटी में जमीनी विवाद में मंगलवार सुबह दो पक्ष आमने-सामने हो गए। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर गडांसे, कुल्हाड़ी और लाठियों से हमला किया। इस हमले में दोनों पक्षों के 10 लोग घायल हो गए। इनमें गंभीर रूप से घायल एक महिला सहित 2 लोगों को जयपुर रेफर किया गया है। पुलिस ने मामले में दोनों पक्षों के बयान लेकर केस दर्ज किया है और 1 व्यक्ति को हिरासत में लिया है।

कारवाड गांव निवासी गजानंद मीना ने बताया कि उसका अपने परिवार के लोगों से कई महीनों से जमीनी विवाद चल रहा है। विवाद को लेकर कोर्ट में तारीख पेशी चल रही हैं। मंगलवार सुबह उसकी पत्नी घर की साफ-सफाई कर रही थी, तभी दूसरे पक्ष की महिलाओं प्रेमबाई आदि ने घर के आंगन में कटीली झांड़िया पटक दी। जब उसे मना किया तो प्रेमबाई के परिवार के लोग हाथों में गडांसे, कुल्हाड़ी और लाठियां लेकर आ धमके और परिवार को लोगों पर ताबड़तोड़ हमला कर दिया। जिससे गजानंद, गोपाली, निशा, लखन और बालकिशन घायल हो गए। हमले में गोपाली का हाथ टूट गया और गजानंद के सिर में गहरी चोट आई है। निशा और लखन को गंभीर हालत में जयपुर रेफर किया गया है।

दूसरे पक्ष के निरंजन मीना ने बताया कि उसके कब्जे के दो कमरों पर गजानंद आदि ने ताला लगा दिए हैं। उन कमरों में रखे गेहूं को निकालने उसके परिवार की महिला प्रेमबाई गई तो उसे गेहूं नहीं निकालने दिया। इस संबंध में परिवार के अन्य लोगों को कहा तो उन्होंने विरोध करते हुए लाठी, गडांसे, कुल्हाड़ी आदि से हमला कर दिया। इस हमले में निरंजन मीना सहित परिवार की मेमबाई, प्रेमबाई एवं अन्य दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। इन सभी को हिंडौन के सरकारी हॉस्पिटल में भर्ती कराया है। इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 2 पक्षों की ओर से केस दर्ज किया है और एक पक्ष के शिशुपाल सिंह को हिरासत में लिया है।

ग्रामीणों ने किया बीच-बचाव
एक ही परिवार के लोगों को लाठी, गडांसे आदि हथियारों से झगड़ता देख काफी संख्या में लोग जमा हो गए। ग्रामीणों ने दोनों पक्षों में बीच-बचाव किया और घायलों को हिंडौन के सरकारी अस्पताल पहुंचाया। ग्रामीणों ने बताया कि इन दोनों पक्षों के बीच काफी समय से जमीन को लेकर विवाद चला आ रहा है।