पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अवैध क्लिनिक:कुड़गांव में स्वास्थ्य विभाग की कार्रवाई के डर से झोलाछापों में हड़कंप, कई बंद कर भागे क्लिनिक

हिन्डौनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना संक्रमण के कारण लोग बिना डिग्री वाले चिकित्सकों से इलाज करा रहे हैं ।कस्बे में दर्जनों से ज्यादा बिना रजिस्ट्रेशन वाले झोलाछाप डॉक्टर किराए एवं घरों की दुकानों में अस्पताल बनाकर स्वास्थ्य विभाग की जांच में निकले कोरोना संक्रमित मरीजों का तलाश कर रहे हैं जिससे लोगों में संक्रमण का खतरा दिनों दिन बढ़ रहा है। इस सूचना पर कुड़गांव सीएचसी डॉक्टर द्वारा की गई कार्रवाई के दौरान कई झोलाछाप डॉ दुकानें बंद कर गए तो कई खुली छोड़ कर भाग गए। जिससे निजी क्लीनिक झोलाछाप वालों में हड़कंप मच गया।

इस समय लोग कोविड-19 महामारी संक्रमण से जूझ रहे हैं अस्पतालों में उपचार और स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी से मरीज बेहाल हैं कुड़गांव सीएससी क्षेत्र की दर्जनों ग्राम पंचायतों में बीमारियों के पैर पसारने से घर-घर में खांसी जुकाम बुखार के मरीज बढ़ रहे हैं। ऐसे में कई लोग बिना डिग्री वाले इन झोलाछाप डॉक्टरों से ही इलाज करा रहे हैं अधिकांश ग्राम पंचायतों में देखने पर यह सामने आया है कि सरकारी अस्पतालों में दिखाने से पहले निजी क्लीनिक या झोलाछाप डॉक्टरों से वायरल ,खांसी ,जुखाम, बुखार के अलावा अन्य बीमारियों का उपचार करवाया।जहां कई दिनों तक उपचार लेने के बाद भी मरीज ठीक नहीं होने के बाद सरकारी अस्पतालों में पहुंचे वहां कोरोना की जांच करने पर उन्हें कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं ।

क्षेत्र के कई मरीजों ने बताया कि सरकारी अस्पतालों में डॉक्टर स्टाफ व संसाधनों की कमी है । वहीं दूसरी और वर्तमान में सिर्फ कोरोना से पीड़ित पर ही ध्यान दिया जा रहा है ऐसे में स्वास्थ संबंधी अन्य समस्याएं होने पर लोगों को निजी क्लीनिक या झोलाछाप का ही सहारा लेने को मजबूर होना पड़ रहा है। वही दैनिक भास्कर करौली हिंडौन संस्करण में गांवों में झोलाछाप डॉक्टर कोरोना वायरस का कर रहे उपचार संक्रमण बढ़ने का खतरा शीर्षक नामक खबर गत दिवस प्रकाशित हुई थी। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग की ओर से 5 मई को निजी क्लीनिक एवं झोलाछाप डॉक्टरों के विरुद्ध कार्रवाई के लिए ब्लॉक सीएमएचओ द्वारा कुड़गांव सीएचसी पर कार्यरत डॉ सुमन सिंह मीणा के नाम आदेश जारी किए गए ।जिस पर गुरुवार दोपहर बाद पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त कार्रवाई के दौरान कुड़गांव कस्बे में झोलाछाप डॉक्टर एवं निजीक्लीनिको पर कार्रवाई की गई जिसकी सूचना झोलाछाप डॉक्टरों को कहीं से मिल गई इस पर कई झोलाछाप आनन-फानन में अपनी क्लीनिक व दुकानों को बंद कर तो कई खुला ही छोड़कर भाग गए।

पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त कार्रवाई से बिना रजिस्ट्रेशन क्लीनिक एवं झोलाछाप डॉक्टरों में अफरा-तफरी मच गई।लगातार होगी कार्रवाईडॉक्टर ने बताया कि सीएचसी क्षेत्र के अंतर्गत गांव ढाणी में संचालित बिना डिग्री रजिस्ट्रेशन के झोलाछाप क्लिनिकों पर कार्रवाई अभियान प्रतिदिन जारी रहेगा ऐसे झोला छापो के प्रति सख्त कार्रवाई के आदेश विभाग की ओर से जारी किए गए हैं। जिसके अनुसार निजी क्लीनिक सील करना एवं अन्य कानूनी कार्रवाई भी उनके खिलाफ की जाएगी।बिना रजिस्ट्रेशन इलाज करना गलतडॉक्टर ने बताया कि कोरोना महामारी संक्रमण तेजी से फैल रहा है ऐसे में झोलाछाप या निजी क्लीनिक बिना रजिस्ट्रेशन वाले डॉक्टरों को मरीजों का उपचार करना गलत है। सरकारी अस्पतालों में मरीजों को अपनी जांच करवा कर ही डॉक्टर के परामर्श अनुसार इलाज करवाना ठीक है जिससे मरीज जल्दी स्वस्थ हो सके। - डॉ सुमन सिंह मीणा, सीएचसी, कुड़गांव

खबरें और भी हैं...