पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ट्रेनों में बुजुर्गाे को रियायतें:अनलॉक के बाद भी ट्रेनों में बुजुर्गाे को रियायतें नहीं

हिन्डौन15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • संक्रमण को नियंत्रित करने के नाम पर रेगुलर चल रही ट्रेनों को स्पेशल बनाकर चलाया जा रहा है

कोरोना संक्रमण के कारण एक साल बाद भी दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग पर कई ट्रेनों का संचालन बंद पड़ा हुआ है। वर्तमान में जो ट्रेनें चल रही है, उन्हें भी स्पेशल ट्रेन के रुप में चलाया जा रहा है। कोरोना के कारण पूरे विश्व की अर्थव्यवस्था चरमराई हुई है। लेकिन रेलवे ने कोरोना को कमाई का अवसर मान लिया है। क्योंकि एक तरफ जहां संक्रमण को नियंत्रित करने के नाम पर रेगुलर चल रही ट्रेनों को स्पेशल बनाकर चलाया जा रहा है, वहीं टिकट पर दी जा रही रियायतों (कंसेशन) को बंद कर यात्रियों पर दोहरी मार पड़ रही है। कोरोना से पहले ट्रेनों में यात्रियों को टिकट पर 303 तरह की रियायत दी जा रही थी। लेकिन सीनियर सिटीजन, पत्रकार, पुलिस सहित अन्य रियायतों को बंद कर फिलहाल 115 तरह की रियायत दी जा रही हैं।सांसद व विधायक के लिए नहीं कोई कटौतीदेश आजाद होने के बाद से ही सरकार द्वारा केंद्रीय मंत्री, राज्य मंत्री, सांसद और विधायक को रेल/हवाई यात्रा, कार, मोबाइल, पेट्रोल/डीजल, आवास सहित अन्य कई सुविधाएं मुफ्त में दी जाती है। ये सुविधा ना सिर्फ वर्तमान बल्कि पूर्व सांसद और विधायक को भी दी जाती है। जबकि अगर कोई एक दिन भी सांसद या विधायक रहा हो उसे रेलवे मुफ्त यात्रा की सुविधा देता है। जबकि कोरोना महामारी के बाद भी इन्हें मुफ्त यात्रा की सुविधा ही दी जा रही है।अभी रेलवे कैंसर, डीफ एंड डंब, मेंटल रिटायर्ड, ब्लाइंड और विकलांग यात्रियों को ही टिकट में छूट दे रहा है, जबकि कोरोना से पहले स्थानीय स्टेशन पर रोजाना 20 से 30 सीनियर सिटीजन 50 प्रतिशत रियायत लेने आते थे, लेकिन फिलहाल सभी को पूरा किराया देकर रिजर्वेशन टिकट लेना पड़ता है। रेलवे द्वारा बीएसएफ सहित सभी डिफेंड कर्मियों को किराए में छूट दी जा रही है। लेकिन राजस्थान सहित अन्य राज्यों के पुलिस कर्मियों को किराए में किसी भी प्रकार की छूट यानी रियायत नहीं दी जा रही है। जबकि गृह मंत्रालय ने रेलवे के साथ एक विशेष अनुबंध किया हुआ है। जिसके तहत ऑन ड्यूटी पुलिसकर्मियों को कोरोना से पहले फ्री यात्रा की सुविधा दी जाती थी। इस संबंध में कोटा मंडल के वरिष्ठ वाणिज्यिक प्रबंधक अजय कुमार पाल पाल का कहना रहा कि बोर्ड के आदेश पर कुछ रियायतों को फिलहाल बंद कर दिया गया है। जरूरी रियायतों को ही अभी जारी रखा हुआ है। स्थिति सही होने पर सभी रियायतें पूर्व की भांति देना शुरू किया जा सकेगा।दैनिक यात्री संघ के अध्यक्ष डॉ. मनोज शर्मा का कहना रहा कि रेलवे की ओर से दैनिक यात्रियों की अनदेखी की जा रही है। स्पेशल ट्रेनों में दैनिक यात्रियों को मासिक सीजन टिकट जारी नहीं किए जा रहे हैं। इस कारण यात्रियों को प्रतिदिन टिकट बनवाकर यात्रा करनी पड़ रही है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप किसी विशेष प्रयोजन को हासिल करने के लिए प्रयासरत रहेंगे। घर में किसी नवीन वस्तु की खरीदारी भी संभव है। किसी संबंधी की परेशानी में उसकी सहायता करना आपको खुशी प्रदान करेगा। नेगेटिव- नक...

    और पढ़ें