पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आपत्ति:मोरेल की पुलिया के निर्माण को लेकर ग्रामीणों में रोष

जस्टाना22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जस्टाना | ‌निर्माणाधीन पुलिया, जिसके निर्माण को लेकर ग्रामीणों ने आपत्ति जताई है। - Dainik Bhaskar
जस्टाना | ‌निर्माणाधीन पुलिया, जिसके निर्माण को लेकर ग्रामीणों ने आपत्ति जताई है।
  • धोराला गांव के वाशिंदों की पीड़ा- पुलिया की चौड़ाई कम होने से भारी वाहनों को आवागमन में आएगी परेशानी

धोराला गांव से पीपलदा, जस्टाना जाने वाले मार्ग पर गांव के पास ही मोरेल नहर की पुलिया लंबे समय से क्षतिग्रस्त पड़ी थी। ग्रामीणों की मांग पर जल संसाधन विभाग के द्वारा पुलिया का पुनः निर्माण कार्य किया जा रहा है, लेकिन इस पुलिया निर्माण कार्य को लेकर ग्रामीणों ने आपत्ति जताई है।ग्रामीण हंसराज धोराला, धर्मेंद्र जांगिड, महेश मीणा, विष्णु योगी, जगराम मीणा, पंकज योगी, मदन योगी आदि का कहना है कि मोरेल नहर के रास्ते वाली डामरीकरण सडक क्षेत्र के धोराला, पीलूखेडा, मरमटपुरा, दतूली, गोतोड़ सहित करीब एक दर्जन गांवों को पीपलदा के पास बौंली रोड से जोड़ती है।

साथ ही यह सड़क इन गांवों को जस्टाना के पास कोटा-लालसोट मेगा हाइवे से जोड़ने का मुख्य मार्ग है।रोड पर नहर की पुलिया का निर्माण करवाया जा रहा है, वह 12 फुट कीचौड़ाई में ही करवाया जा रहा है, जो काफी कम है।पुलिया की इस चौडाई से ट्रक, बस, डंपर आदि भारी वाहनों का प्रवेश होना संभव नहीं है। ट्रैक्टर-ट्रॉलियों सहित भारी वाहनों के लिए नहर की पुलिया पर घूमने में परेशानियों के साथ खतरा भी बना रहता है।

चौड़ाई बढ़ाने का काम सानिवि का नहर की पुरानी पुलिया की छत को हटाकर नवीन छत का निर्माण करवा रहे हैं। निर्माण को लेकर जो प्लान बनाया था, वह केवल छत के निर्माण का था। कार्य की स्वीकृति एस्टीमेट के अनुसार ही मिली है। इसलिए पुराने पिल्लरों के आधार पर ही निर्माण करवाया जा रहा है। रोड के अनुसार पुलिया की चौड़ाई बढ़ाने का काम सानिवि का है।चेतराम मीणा, एईएन, जल संसाधन विभाग

खबरें और भी हैं...