पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रतिनिधिमंडल को मिला आश्वासन:फीस बढ़ोतरी के मामले में देर रात छात्र प्रतिनिधिमंडल को मिला आश्वासन

जोबनेर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जोबनेर|फीस वृद्धि को लेकर धरने पर बैठे विद्यार्थियों को समझाते हुए पुलिस अधिकारी। - Dainik Bhaskar
जोबनेर|फीस वृद्धि को लेकर धरने पर बैठे विद्यार्थियों को समझाते हुए पुलिस अधिकारी।
  • फीस वृद्धि से आक्रोशित विद्यार्थियों ने राज्यपाल को दिया ज्ञापन

फीस वृद्धि को लेकर पिछले एक सप्ताह से धरना प्रदर्शन कर रहे विद्यार्थी को बुधवार देर रात छात्र प्रतिनिधि मंडल की कुलपति प्रो जेएस संधू के साथ हुई चर्चा में मिले आश्वासन पर विद्यार्थियों को राहत मिली। कुलपति प्रो संधू ने राजस्थान की अन्य किसी भी कृषि विश्वविद्यालय की जिसमें सबसे कम फीस है उसी कृषि विश्वविद्यालय के समान फीस लागू करने का आश्वासन दिया।विद्यार्थियों ने बुधवार को पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार राज्यपाल भवन के घेराव को लेकर एकत्र हुए। मामले की गंभीरता को देखते तीन थानों की पुलिस डिप्टी सांभर कीर्ति सिंह मय पुलिस जाब्ते के मौजूद थे।

विश्वविद्यालय प्रशासन व पुलिस की समझाइश पर 7 विद्यार्थियों का एक प्रतिनिधिमंडल गठित कर पुलिस सुरक्षा में राज्यपाल भवन ले जाया गया था। प्रतिनिधिमंडल सीएमओ कार्यालय भी पहुंच कर अपनी समस्याओं का ज्ञापन दिया था, लेकिन वहां से भी पुख्ता आश्वासन नहीं मिलने के चलते विद्यार्थियों में आक्रोश था। विद्यार्थियों ने इस सेमेस्टर में रजिस्ट्रेशन करवाने का बहिष्कार करने की चेतावनी दी थी। इस सेमेस्टर में रजिस्ट्रेशन के लिए 8 जुलाई की तारीख थी। एनएसयूआई अध्यक्ष अभिषेक चौधरी, एनएसयूआई प्रदेश सचिव रोहित तेतरवाल, उपेन यादव, छात्रसंघ पदाधिकारी सहित सरपंच और जनप्रतिनिधि भी विद्यार्थियों के समर्थन में पहुंचे। एनएसयूआई अध्यक्ष अभिषेक चौधरी ने विद्यार्थियों की फीस वृद्धि को लेकर कुलपति प्रोफेसर संधू के साथ चर्चा की थी।

विद्यार्थियों के लगातार धरने प्रदर्शन की व्यवस्था बनाए रखने के लिए दिनभर फुलेरा, रेनवाल, जोबनेर थाने के थाना अधिकारी व डिप्टी सांभर कीर्ति सिंह व पुलिस फोर्स की गाड़ी दिन भर आंदोलन स्थल पर मौजूद रही। धनराज चौधरी, पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष राजेंद्र जाखड़, शंकरलाल ने बताया कि प्रशासन की फीस वृद्धि विद्यार्थियों पर आर्थिक भार के रूप में थी। कुलपति प्रो जेएस संधू से हुई चर्चा के अनुसार फीस को लागू होती है तो विद्यार्थी सहमत हैं। निदेशक छात्र कल्याण डॉ आई एम खान ने बताया कि छात्र प्रतिनिधि मंडल के साथ देर रात कुलपति प्रो जेएस संधू के साथ चर्चा हुई, अन्य किसी भी कृषि विश्वविद्यालय जिसकी फीस सबसे कम है उसी विश्वविद्यालय की फीस लागू करने पर सहमति बनी है।

खबरें और भी हैं...