पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही:13 माह में बननी थी 16 किमी सड़क, 4 साल में भी नहीं बनी

करौली11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गंगापुर मोड़ से कैलादेवी तक सड़क कई जगह क्षतिग्रस्त, वाहनों के जाम लगने से लोग हो रहे परेशान

गंगापुर मोड़ से आस्था धाम कैलादेवी तक सड़क निर्माण के लिए 4 वर्ष पूर्व स्वीकृति जारी की गई। जिसमें संवेदक 13 माह में सड़क को पूर्ण करना था, लेकिन 4 वर्ष गुजर जाने के बाद भी अभी तक सड़क पूर्ण नहीं हुई है। जिससे आवागमन में वाहन चालक और लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। विभागीय अधिकारियों की उदासीनता और संवेदक की हठधर्मिता लोगों पर अभिशाप बनकर टूट रही है। क्योंकि गंगापुर मोड़ से कैलादेवी तक रास्ते में सड़क पूरी तरह टूट चुकी है और गड्ढे होने से उनमें बारिश का पानी जमा हो गया है। जिसमें दुपहिया वाहन चालक गिरकर चोटिल हो रहे हैं। वहीं दूसरी ओर आस्थाधाम कैलादेवी में दर्शन करने के लिए चार पहियां वाहनों से आने वाले भक्तों की गाड़ियां भी जाम लगने से फंस जाती हैं।

जिनको ग्रामीणों की मदद से निकाला जाता है रात के समय में गाड़ी फंसने पर घंटों तक बीच राह में यात्री गाड़ी में ही फंसे रहते हैं। ऐसे में यह सड़क उनके लिए किसी मुसीबत भरी सड़क से कम नहीं है।बजरी की जगर पर मिट्‌टी, 16 में से 11 किलोमीटर भी नहीं बनी सड़क2018 में संवेदक ने बजरी बंद होने का हवाला देते हुए निर्माण कार्य को 6 माह तक बंद कर दिया लेकिन विभागीय अधिकारियों ने सरकार से बजरी के स्थान पर सिलिका की डस्ट को निर्माण कार्य में उपयोग करने का ऑर्डर भी जारी करवा लिया।

इसके साथ ही 16 किलोमीटर सीसी सड़क से 5 किलोमीटर सड़क को डामरीकरण करने का भी आदेश मंजूर हो गया। लेकिन इसके बाद भी संवेदक पर 4 साल में भी सड़क निर्माण नहीं हो पाया। है इससे लोगों को कितनी परेशानी उठानी पड़ रही है यह तो राह से गुजरने वाले ही बता सकते हैं।^लगभग 2 साल से कोरोना के कारण और राज्य सरकार द्वारा बजट नहीं आने के कारण कार्य में देरी हुई है। शीघ्र ही बजट आते ही अधूरे पड़े निर्माण को शीघ्र पूरा किया जाएगा।हरिनारायण मीणा, अधिशासी अभियंता सार्वजनिक निर्माण विभाग

खबरें और भी हैं...