मौसम खराब होने से टीकाकरण कम:ठंड और बारिश ने रोकी टीके की रफ्तार, चौथे दिन जिले में सबसे कम 8 हजार 82 किशोरों का ही टीकाकरण

करौली12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गुढ़ाचन्द्रजी. लगातार दूसरे दिन गुरुवार को कस्बे में रिमझिम बारिश हुई। - Dainik Bhaskar
गुढ़ाचन्द्रजी. लगातार दूसरे दिन गुरुवार को कस्बे में रिमझिम बारिश हुई।
  • बारिश-शीतलहर कहीं अच्छी तो कहीं नुकसान पहुंचा रही } लगातार दूसरे दिन की बारिश से रबी की फसलों में सिंचाई का फायदा

जिले में 15 से 18 वर्ष के बच्चों के वैक्स ीनेशन में चौथे दिन मौसम खराब होने से टीक करण कम रहा। चौथे दिन तेज सर्दी व बारिश से जिले में 8 हजार 82 विद्यार्थियों को ही वैक्सीन लगाई जा सकी। पहले दिन जिले में 15 हजार 17, दूसरे दिन 11 हजार 322 विद्या ्थियों ने टीके लगवाए थे। गौरतलब है कि जिले में गत दिवस 35 हजार वैक्सीन की डोज 15 से 18 वर्ष तक के बच्चों के लिए आई। इनमें से 55 केंद्रों पर तीसरे दिन 9 हजार 700 विद्या्थियों को पहली डोज लगाई गई थी। गुरुवार को भी चिकित्सा टीमों ने स्कूलों में पहुंचकर विद्या ्थियों को वैक्सीन लगाई।
चाैथे दिन ब्लॉ वाइज वैक्सीनेशन : करौली में चौथे दिन 2098, हिंडौन में 2050, टोड़ाभीम में 1710, सपोटरा में 1342, गुढ़ाचंद्रजी में 491, मंडरायल में 391 किशोरों का टीकाकरण हुआ।
मावठ व सर्द हवाओं से सर्दी बढ़ी, फसलों के लिए बरसा अमृत
श्रीमहावीरजी। दो दिन से शहर सहित आसपास के गांवों में ठंडी हवा तथा बूंदाबांदी से सर्दी तेज हो गई है। लोगों को अलाव जलाकर दिनभर तापते हुए देखा गया। सुबह से ही बादल छाए रहे और दिनभर रुक-रुक कर बरसात होती रही। दोपहर बाद तेज बरसात से किसानों के चेहरे खिल उठे। बारिश से रबी की फसल में सिंचाई हुई है। मौसम में ठंडक हो गई।

दिनभर बारिश का दौर, रबी की फसल को फायदा

कैलादेवी ग्रामीण | पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने से बुधवार से मौसम फिर बदल गया। लगातार बूंदाबांदी से सर्दी बढ़ गई है। बूंदाबांदी से सरसों, गेहूं व चना की फसल को सिंचाई का फायदा मिला है। पीतूपुरा निवासी किसान नेमी चंद पटेल, लोहर्रा से भरत लाल मीणा, कैला गांव से किरोड़ी भगत, पटपरी से ओमप्रकाश योगी, केशोपुरा से लक्ष्मण मीणा सहित क्षेत्र के किसानों के अनुसार बुधवार से लगातार बूंदाबांदी से फसलों में सिंचाई होने का लाभ मिलेगा।

इधर, रुक-रुक कर बारिश से कस्बे के गली-मोहल्लों में पानी भर गया। इससे राहगीरों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लगातार बारिश से पशुओं पर बुरा असर पड़ा है। पशुपालक हल्के बैरवा ने बताया कि शीत लहर एवं बूंदाबांदी के दौरान भेड़, बकरी आदि भूख से परेशान रहते हैं।

नादौती| बुधवार रात तथा गुरुवार दिन में बारिश हुई। इससे सरसों, चना व गेंहूं की सूखती फसल को जीवनदान मिल गया। मावठ होने फसल लहराने लगी है। जिससे क्षेत्र के किसान खुश हैं।

खबरें और भी हैं...