पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आक्रोश - अस्पताल के गेट पर प्रसव:अस्पताल के गेट पर प्रसव, स्टाफ को बताया तो बोले-पहले पर्ची बनवा लो, परिजन भड़के

करौली19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कुड़गांव अस्पताल की घटना, ग्रामीणों और परिजनों ने किया विरोध-प्रदर्शन

कस्बे के स्वास्थ्य केंद्र पर स्वास्थ्य कर्मियों की लापरवाही के चलते एडमिट पर्ची को लेकर अस्पताल परिसर में प्रसव पीड़ा से पीड़ित महिला काफी देर तक तड़पती रही और बाहर ही डिलीवरी हो गई। जिसको लेकर मौके पर उपस्थित ग्रामीण स्वास्थ्य कर्मियों की लापरवाही को देखकर भड़क उठे और प्रदर्शन कर जोर-जोर से शोर शराबा करने लगे जिसको सुनकर स्वास्थ्य कर्मी अस्पताल के अंदर से बाहर आए और देखा तो परिजन ही उसकी सार सवाल करने में लगे हुए हैं।कुड़गांव कस्बे के बजरंग लाल, राकेश, राजकुमार, राजाराम, गोविंद सिंह, देवी सिंह, जितेंद्र चौधरी कल्लू सेन गिर्राज ठेकेदार सहित ग्रामीणों ने बताया कि बुधवार सुबह 9 बजे के लगभग मनोहरपुरा गांव से परिजन एवं पति धन सिंह अपनी पत्नी ब्रह्मा वाई के डिलेवरी होने वाली थी।

जिसके सुबह से ही हल्की प्रसव पीड़ा हो रही थी। परिजन डिलेवरी प्रसव से पीड़ित महिला को लेकर कुड़गांव सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर पहुंचे गाड़ी से उतारते ही महिला के पेट में जोर जोर से दर्द होने लगा साथ ही दर्द सहन नहीं होने पर महिला अस्पताल से बाहर परिसर में लेट गई और कुछ देर बाद महिला के डिलीवरी हो गई और बच्चा को जन्म दिया। वही ऐसी स्थिति में परिजनों ने अस्पताल परिसर के अंदर जाकर स्वास्थ्य कर्मियों से डिलीवरी होने की बात कही तो स्वास्थ्य कर्मी एडमिट पर्ची कटवाने की बात कहते रहे और बाहर ही खुले में अस्पताल परिसर में महिला की डिलीवरी होते देख मौके पर स्वास्थ्य कर्मियों के नहीं आने पर उपस्थित ग्रामीण भड़क उठे और जोर-जोर से शोर शराबा एवं स्वास्थ्य कर्मियों के विरोध में गाली गलौच कर प्रदर्शन करने पर उतारू हो गए।

इसके बाद ग्रामीणों के शोर-शराबे की आवाज को सुनकर स्वास्थ्य कर्मी बाहर निकले तो महिला के डिलीवरी हो चुकी थी जच्चा बच्चा को आनन-फानन में सवाल गया। मौके पर उपस्थित प्रदर्शनकारियों ने स्वस्थ कर्मियों पर स्थानीय एवं अन्य आरोप लगाते हुए कहा कि अस्पताल परिसर में स्वास्थ्य कर्मियों की लापरवाही के चलते अवस्थाएं बनी हुई है जिससे कारण गांव से आने वाले मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है प्रदर्शनकारी ग्रामीणों की ओर से स्वास्थ्य व्यवस्था को शीघ्र सुधारने की चिकित्सा अधिकारी प्रभारी को चेतावनी दी गई।

लेबर रूम चेक करने गया था शिक्षा अधिकारी प्रभारी ने बताया कि जिला लेबर रूम इंचार्ज होने के कारण बुधवार सुबह सपोटरा लेबर रूम चेक करने के लिए चला गया था इस बारे में जानकारी मिल गई थी तो शीघ्र ही अस्पताल पहुंचा स्टाफ स्वास्थ्य कर्मियों से जानकारी पर मालूम चला कि महिला के समय से पूर्व 8 माह में ही डिलेवरी हो गई। वही बच्चा का वजन मात्र डेढ़ किलो था जच्चा बच्चा कमजोर होने के कारण उपचार सुरक्षा को लेकर करौली रेफर कर दिए गए।डॉ अमित उपाध्याय, चिकित्सा अधिकारी प्रभारी स्वास्थ्य केंद्र, कुड़गांव

खबरें और भी हैं...