• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Karauli
  • Due To The Neglect Of Loved Ones, The Temples Of Education Are Getting Dilapidated, Only The Employees Of The Education Department Are Not Using It.

अनदेखी:अपनों की अनदेखी से जर्जर हो रहे शिक्षा के मंदिर, शिक्षा विभाग के कर्मचारी ही नहीं ले रहे उपयोग में

करौलीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राज्य सरकार ने स्कूल शिक्षा में गुणात्मक सुधार सुनिश्चित करने के उद्देश्य से ब्लॉक के कई प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों को माध्यमिक व उ.मा.में समन्वित किया था।इसके बाद कई भवन खाली हो गये,लेकिन समुचित उपयोग नही होने से ये भवन आज धूल फांक रहे है।भवन लगातार जर्जर हो रहे है,लेकिन प्रशासनिक या शिक्षा विभाग इन भवनों की सार संभाल या उपयोग के लिए कोई विशेष प्रयास नही करते नजर आ रहे है।

राजकीय प्राथमिक विद्यालय भोज्यापुरा को समन्वित करने से विद्यालय भवन खाली पड़ा हुआ है।जबकि पंचायतों में सरकारी कार्यालयों के पास पर्याप्त अपने भवन भी नहीं है।जबकि नियमानुसार जिला कलक्टर इन भवनों को अन्य सरकारी विभागों को दे सकते है।ऐसे में इस भवन का कोई उपयोग नहीं हो रहा और यह खंडहर में तब्दील हो रहा है।पंचायत समिति सपोटरा की 21 ग्राम पंचायतों के 17 प्राथमिक व 10 उप्रावि को राज्य सरकार ने 14 अगस्त 2014 को गुणात्मक सुधार सुनिश्चित करने के लिए एकीकृत उच्च माध्यमिक विद्यालयों में समन्वित कर आदर्श विद्यालयों का गठन किया था।

लेकिन राज्य सरकार ने 20 अक्टूबर 2014 को सपोटरा पंचायत समिति की 9 ग्राम पंचायतों के 9 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों को परिवेदनाओं के आधार पर छात्रों की सुविधा, भवन की उपलब्धता को मध्य नजर रखते हुए समन्वित विद्यालयों में कक्षाओं का संचालन यथावत पूर्व की स्थिति के अनुसार उसी भवन परिसर में किये जाने की स्वीकृति प्रदान कर दी गई।ऐसे भी हो सकता है उपयोगनिदेशक मा.शिक्षा बीकानेर ने 12 फरवरी 2015 को परिपत्र जारी कर इन सरकारी भवन व भूमि का उपयोग प्राथमिकता से करने का निर्देश दिया गया था।जिनमें अध्यापकों व शिक्षा विभाग के कार्मिकों के आवास हेतु प्रथम प्राथमिकता दी गई। जबकि कार्मिकों को मकान किराया भत्ते के रूप में राशि मिल रही है, लेकिन शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने आज तक इन कार्मिकों को आवास के रूप में उपयोग लेने की कोई पहल नही की गई।

इसके अलावा आंगनबाड़ी केन्द्र, स्वास्थ केन्द्र, पंचायत भवन, पटवार घर, सामूहिक कार्यक्रम, शादी विवाह, सामाजिक कार्यक्रम, मेले, त्योहार व अन्य विभागों के कार्मिकों को आवास के लिए स्वामित्व रखने वाले विद्यालय एसडीएमसी की बैठक में प्रस्ताव पारित कर भवन किराए पर दे सकते हैं। सार संभाल के पीईईओ को निर्देश दे रखे हैं^खाली पड़े स्कूल भवनों की सार संभाल के लिए सभी पीईईओ को निर्देशित किया हुआ है, फिर भी स्कूल भवनों से संबंधित कोई शिकायत आती है तो संबंधित पीईईओ को पुनः निर्देशित किया जाएगा।पुष्पेंद्र सिंह जादौन, मुख्य ब्लाक शिक्षा अधिकारी, सपोटरा

खबरें और भी हैं...