वन्यजीव का कंकाल मिला:फारेस्ट डिपार्टमेंट ने कराया पोस्टमार्टम, फॉरेंसिक लैब देहरादून को जांच के लिए भेजें सैंपल

करौली4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वन्यजीव का कंकाल मिलने पर जांच करते वन विभाग के अधिकारी। - Dainik Bhaskar
वन्यजीव का कंकाल मिलने पर जांच करते वन विभाग के अधिकारी।

मंडरायल के नींदर वन खंड क्षेत्र स्थित श्यारदा नाले के पास एक वन्यजीव का कंकाल मिला है। वन्यजीव का सीसीएस सहित वन प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में पोस्टमार्टम कराने के बाद अंतिम संस्कार किया। वहीं, फॉरेंसिक लैब देहरादून को जांच के सैंपल भेजे है। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही साफ हो पाएगा यह कंकाल बाघ, चीता या किसी अन्य जानवर का है।

रणथंभौर बाघ परियोजना करौली के उप वन संरक्षक रामानंद भांकर ने बताया कि 4 जनवरी रात को मंडरायल रेंज के नींदर वन खंड के श्यारदा नाले के पास वन्य जीव का कंकाल पड़े होने की सूचना मिली थी। सूचना पर वन विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे तो मौके पर एक खोपड़ी, तीन छोटी हड्डी व चार बड़ी हड्डी पड़ी मिली। वन विभाग के अधिकारी कंकाल को लेकर उप वन संरक्षक कार्यालय करौली लेकर आए। 5 जनवरी दोपहर बाद वन विभाग के वरिष्ठ पशु चिकित्सक, सीसीएफ टी.सी वर्मा, कलेक्टर सिद्धार्थ सिहाग, एसपी शैलेंद्र सिंह इंदोलिया, डीएफओ बाघ परियोजना रामानंद भांकर, डीएफओ वाइल्ड लाइफ सुमित बंसल सहित वन अधिकारी की मौजूदगी में कंकाल का पोस्टमार्टम कराया गया और जांच के लिए सैंपल भारतीय फॉरेंसिक लैब देहरादून भिजवाए गए। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही पता लगेगा कि यह कंकाल किसी बाघ का है या अन्य किसी जानवर का।

गौरतलब है कि करौली क्षेत्र में टी-80, टी-118 और टी-118 के दो शावकों का भी मूवमेंट लगातार जिले में बना हुआ है। 11 फरवरी 2020 से टी-92 और 2 फरवरी 2021 से टी-72 मिसिंग चल रहे है।