पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अवैध खनन:धड़ल्ले से हो रहा अवैध खनन, विभाग बना मूक दर्शक, माफियाओं के हौसले बुलंद

करौली11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
टोडाभीम| उपखंड क्षेत्र में धड़ल्ले से हो रहा अवैध खनन व मोरम, गिट्टियों व पत्थरों का परिवहन। - Dainik Bhaskar
टोडाभीम| उपखंड क्षेत्र में धड़ल्ले से हो रहा अवैध खनन व मोरम, गिट्टियों व पत्थरों का परिवहन।

टोडाभीम उपखंड क्षेत्र के पाड़ला, भनकपुरा, खेड़ी मेरेड़ा सहित बिराई माता मंदिर के पास क्षेत्र में ग्रामीणों के विरोध के बावजूद भी लंबे समय से चल रहे अवैध खनन को लेकर स्थानीय प्रशासन गंभीर दिखाई नहीं दे रहा। जिसके कारण क्षेत्र में लंबे समय से अवैध खनन धड़ल्ले से चल रहा है। अवैध खनन को लेकर पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं करने के कारण खनन माफियाओं के हौसले दिनों-दिन बुलंद होते जा रहे हैं। उपखंड क्षेत्र में लंबे समय से चल रहे अवैध खनन को लेकर खनन विभाग द्वारा कोई कार्यवाही नहीं करने एवं अवैध-खनन को रोकने के लिए किसी भी प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा कार्यवाही नहीं किए जाने से खनन माफियाओं के द्वारा पहाड़ों में ब्लास्ट कर पहाड़ों को खोखला कर दिया गया है।

उपखंड क्षेत्र में अवैध खनन का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है क्षेत्र में लंबे समय से चल रहे अवैध खनन लाये जा रहे पत्थरों, गिट्टियों व मोरम से भरे ट्रैक्टर ट्रॉलियां पुलिस उपाधीक्षक कार्यालय, एसडीएम कार्यालय सहित पुलिस थानों के सामने से बेखौफ होकर निकल रहे हैं। लेकिन कभी भी इन पत्थर, गिट्टियों व मोरम से ओवरलोड भरे वाहनों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं होती दिखाई देती जिसके चलते खनन माफियाओं के हौसले दिनों दिन बुलंद होते जा रहे हैं।अवैध खनन को लेकर खनन विभाग एवं पुलिस द्वारा समय-समय पर चला रहे चलाए जा रहे अभियान की दिनों-दिन हवा निकलती दिखाई दे रही है। वहीं अधिकारियों के द्वारा अभियान के समय पर नाम मात्र की कार्यवाही कर कुछ वाहनों के चालान काट कर अपने कर्तव्य की इतिश्री कर ली जाती है।

अभियान कुछ दिनों तक चलता है उसके बाद कई महीनों तक अधिकारियों की उदासीनता दिखने लगती है। जिसके कारण क्षेत्र में अवैध खनन और परिवहन बढ़ जाता है ग्रामीणों ने क्षेत्र में अवैध खनन करने वाले खनन माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर कई बार स्थानीय प्रशासन को ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई करने की मांग की गई। उसके बाद भी इस संबंध में किसी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई। क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता अभिषेक, नारेड़ा, मलखान चौधरी, रामकेश चौधरी, लखन खेड़ी, महेश बड़ापुरा, दिनेश बड़ापुरा के द्वारा लंबे समय से अवैध खनन को लेकर स्थानीय प्रशासन को अवगत करवाया गया और लोगों ने बताया कि खनन माफियाओं के द्वारा पहाड़ों में किए जा रहे ब्लास्टों से आसपास रह रहे लोगों के मकानों में दरारें पड़ रही है। उन्होंने प्रशासन से मांग की कि जल्द से जल्द क्षेत्र में हो रहे अवैध खनन पर रोक लगाकर आमजन को राहत पहुंचाई जाए।कार्यवाही के नाम पर खानापूर्तिस्थानीय पुलिस व प्रशासन व वन विभाग के अधिकारी उपखंड क्षेत्र में दर्जनों गांव में किया जा रहा खनन का कार्य धड़ल्ले से बेखौफ होकर किया जा रहा है । वन विभाग एवं खनन विभाग के अधिकारियों द्वारा मौके पर पहुंचकर खदानों के रास्तों में नाममात्र की नाली खोदकर अवैध खनन बंद करने की बात कहते हैं।

खबरें और भी हैं...