पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जिसने स्थापित किया वही उजाड़ रहा:नौ साल पहले बने करौली रोडवेज डिपो पर ताले, स्टाफ कर रहा है हिंडौन डिपो में काम, वर्कशॉप से डीजल टैंक भी हटाए

करौली10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 2012 में कांग्रेस की सरकार ने शुरू किया डिपो, अब वही छीनने की कर रही है कार्रवाई, स्थानीय लोगों में रोष
  • ताला लगने के बाद भी कागजों में संचालित हो रहा है आगार

सुनील पाराशर| वर्ष 1997 में करौली जिला बनने के बाद करौली वासियों की रोडवेज डिपो खोलने की मांग को कांग्रेस सरकार ने 2012 में पूरा कर दिया और डिपो पूरी तरह से संचालित हो गया लेकिन कांग्रेस सरकार के जाने के बाद भाजपा सरकार की ओर से धीरे-धीरे डिपो में सुविधाएं खत्म करने के बाद आखिर में कांग्रेस सरकार अब इस डिपो को पूरी तरह खत्म कर रही है। जिससे करौली के लोगों में रोष व्याप्त है। अभी सरकार के नए आदेश के चलते करौली वर्कशॉप में लगे डीजल टैंको को भी खोलने की कार्रवाई शुरू कर दी है। कांग्रेस की तत्कालीन सरकार के मुखिया अशोक गहलोत ने सितंबर 2012 में जिला मुख्यालय पर करौली डिपो का शुभारंभ किया, उस समय डिपो में मुख्य प्रबंधक, यातायात प्रबंधक, प्रबंधक संचालन, मैनेजर फाइनेंस, 6 बाबू, तीन मैकेनिक और एक सहायक कर्मचारी की पद सृजित किए। इसके अलावा 27 चालक और 27 परिचालकों के पद लगाए गए। लेकिन 2013 के बाद भाजपा सरकार द्वारा वर्कशॉप और पेट्रोल पंप को स्थापित नहीं करने से 2016 तक डिपो तो जैसे तैसे चलता रहा लेकिन डिपो कार्यालय को पूरी तरह बंद कर दिया गया और यहां का स्टॉफ हिंडौन डिपो में स्थानांतरित कर दिया गया और सिर्फ करौली डिपो पर एक बाबू ही तैनात किया गया, वह भी 2017 में हिंडौन डिपो में ही स्थानांतरित कर दिया गया और फिर डिपो पर पूरी तरह ताला लग गया जिससे करौली के डिपो का संचालन हिंडौन डिपो से होने लगा। हालांकि जनप्रतिनिधियों ने पत्र लिखकर इतिश्री कर ली जिसका खामियाजा यह उठाना पड़ा कि अब करौली डिपो से डीजल टैंक भी ले जाने की तैयारियां शुरू हो गई है।

जिला मुख्यालय पर रोडवेज का डिपो संचालन नहीं होने के कारण करौली के लोगों को परेशानी हो रही है। अगर करौली वासी गाड़ी को अनुबंध पर कहीं ले जाना चाहे तो उन्हें हिंडौन डिपो से मंगवानी पड़ती है जिस वजह से 60 किलोमीटर बस का अतिरिक्त खर्चा उठाना पड़ता है। साथ ही स्टाफ को भी हिंडौन आने जाने में 60 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। सरकार के आंकड़ों में आज ही कागजों में करौली डिपो संचालित है करौली का पूरा स्टाफ हिंडौन डिपो मैं काम कर रहा है। करौली विधायक लाखन सिंह कटकड़ का कहना है कि करौली रोडवेज डिपो के संबंध में मैंने परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास से मुलाकात की है। साथ ही उनको मांग पत्र भी सौंपा है। उन्होंने पूर्व की भांति करौली मुख्यालय पर ही डिपो यथावत रखने की बात कही है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज समय कुछ मिला-जुला प्रभाव ला रहा है। पिछले कुछ समय से नजदीकी संबंधों के बीच चल रहे गिले-शिकवे दूर होंगे। आपकी मेहनत और प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। किसी धार्मिक स्थल पर जाने से आपको...

    और पढ़ें