खातेदारी जमीन पर भू-माफियाओं का कब्जा:पूर्व सैनिक की खातेदारी जमीन पर भू-माफियाओं का कब्जा

करौली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

करौली जिला मुख्यालय पर करौली शहर वासी एवं आसपास के लोग इन दिनों भूमाफिया हो से भारी परेशानी झेल रहे हैं। हालत यह है कि कुछ भूमाफिया लोगों की जमीन पर अवैध कब्जा कर रहे हैं और कब्जे के नाम पर चौथ वसूली कर रहे हैं । काफी शिकायत करने के बावजूद भी प्रशासन एवं पुलिस द्वारा ध्यान नहीं देने पर पीड़ित व्यक्ति पैसे देकर अपनी जमीन जायदाद की सुरक्षा कर रहा है। ऐसे में भू माफिया के लगातार हौसले बुलंद है और वह प्रशासन व पुलिस को धता बताते हुए अतिक्रमण करने में जुटे हुए हैं। इसी के चलते करौली के ऊंचे का पुरा गांव निवासी पूर्व सूबेदार मेजर राजेंद्र सिंह ने पुलिस अधीक्षक कि यहां गुहार लगाते हुए स्वयं की खातेदारी की जमीन पर भूमाफिया द्वारा अतिक्रमण किए जाने तथा जान से मारने की धमकी देने को लेकर पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपा है।

ज्ञापन में पूर्व सूबेदार मेजर राजेंद्र सिंह ने बताया कि मैं पीपल पुरा का मूल निवासी है और 30 वर्ष की दीर्घकालीन सेना की सेवा से मई 2020 में सेवानिवृत्त हुआ था। उसने जुलाई 2020 में धनीराम सरपंच का पूरा हल्का नंबर 8 करौली में एक बीघा 9 बिस्वा जमीन खरीदी थी जिसमें से 3 बिस्वा जमीन हाईवे निर्माण में चली गई। इस जमीन पर भू माफियाओं की एक गैंग ने जबरन कब्जा कर लिया है। जोगी वसूली में फिरौती का काम करते हैं। राजनीतिक लीडर एवं प्रशासनिक अधिकारियों का नाम बदनाम कर लोगों में दहशत फैलाते हैं जिसमें हाकम सिंह मीणा जय सिंह मीणा लखन लाल मीणा शामिल है।पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छावा का कहना है कि भूमाफिया द्वारा खातेदारी की जमीन पर अवैध कब्जा करने के मामले को लेकर एक टीम गठित कर भू माफिया के खिलाफ नियमानुसार कानूनी कार्रवाई किए जाने का निर्णय लिया गया है। शीघ्र ही भू माफिया के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...