जरूरतमंदों कि सहायता:बाढ़ से तबाह गौटा गांव में पहुंचा राशन, प्रति परिवार को 50 किलो गेहूं दिया

करौली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • खबर के बाद प्रशासन हरकत में, करणपुर के 70 गांवों का कटा संपर्क

चंबल की आई बाढ़ से लोगों के पास खाने को राशन भी नहीं था। जिनके पास था वह पानी मे भीग गया। सपोटरा एसडीएम ओपी मीना के निर्देश पर महाराजपुरा के राशन डीलर भंवर सिंह ने गौटा गांव के प्रति परिवार को 50 किलो राशन (गेहूं) निशुल्क दिया गया है। गौरतलब है कि दैनिक भास्कर ने शनिवार को ‘चंबल के पानी से बस्तियां तबाह, घरों में आटा नहीं’ शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया था इस पर सपोटरा एसडीएम ने लोगो का दर्द समझा और शीघ्र ही करणपुर क्षेत्र गांवों में बाढ़ प्रभावित परिवारों के घरों तक राशन पहुंचाने के निर्देश दिए हैं।

करणपुर क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश व कोटा बैराज से छोड़े गए पानी से चंबल से सटे कई गांवों में फिर से खतरा बढ़ सकता है। वहीं कोटा बैराज से पानी छोड़ने के बाद चंबल नदी में पानी की भारी आवक होने से करणपुर से मंडरायल व करणपुर से वालेर सड़क मार्ग करीब 70 गावों का 11 दिन से संपर्क कटा हुआ है। चंबल का पानी नालों में उलटा पानी आने से आवागमन के सभी आवागमन के साधन बंद है। वहीं कसेड गांव की पुलिया पानी में डूबने से उसके 20 फीट ऊपर पानी चल रहा है।कहां-कहां सड़कें टूटी हैंकरणपुर क्षेत्र की दर्जनों गांव की सड़कें वारिश से टूट गई। जिससे आवागमन करई, बबूलखेडा, गढीकागाव, भकूला, अरौरा, चिरचिरी, गौटा, मरमदा, भोपारा, अमरापुर, डाडा आदि सड़कें टूट गई हैं।

जिससे आवागमन बंद है। करणपुर क्षेत्र में लगातार हो रही भारी बारिश से नदी नाले उफान पर है बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त है नालों में भारी पानी आने से नाले उफान से खेतों में होकर पानी निकल रहा है करीब 11 दिन से बिजली गुल होने से कस्बे में पानी बिजली की एक बहुत बड़ी समस्या बन गयी। युवा नए नए तरीके से अपने जुगाड़ों में लगे हुए है। बिजली के पोल नदी नालों में डूबने की वजह से बिजली सप्लाई ठप पड़ी हुई है तो युवाओं ने अपने तरीके से मिशन चलाकर पैसे इकट्ठे करके डीजल जनरेटर में डालकर अपनी अपनी व्यवस्थाओं में लगे हुए हैं। आटा चक्की, बोरवेल की मोटर, इन्वर्टर, मोबाइल चार्जिंग, घरों में उजाले के लिए टॉर्च, व अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को चार्ज के लिए युवा मिशन चलाने को मजबूर है।

खबरें और भी हैं...