पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कार्रवाई:31 मनरेगा कार्यस्थलों पर स्थिति खराब, 70 मैटों को चेतावनी, 64 बीडीओ व 13 जेटीए को नोटिस

करौली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 67 टीमों ने 377 मनरेगा कार्यों का किया निरीक्षण, मजदूरों को मास्क भी बांटे

ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों की 67 टीमों ने शुक्रवार को जिले की कई ग्राम पंचायतों में 377 मनरेगा कार्यस्थलों का औचक निरीक्षण किया। जहां 31 कार्यस्थलों पर बेहद खराब स्थिति मिली। इस पर 50 मैटों को प्रारंभिक तौर पर चेतावनी दी। 64 ग्राम विकास अधिकारियों और 13 कनिष्ठ अभियंता व जेटीए को जिला परिषद ने कारण बताओ नोटिस जारी किए हैं।

दरअसल, कलेक्टर डॉ.मोहनलाल यादव के निर्देशन में 12 जिला स्तरीय एवं 55 पंचायत समिति स्तरीय टीमें गठित की गईं, जिन्होंने ब्लॉकवार पंचायतों का सघन निरीक्षण किया। इससे कार्मिकों में हडकंप मच गया और सतर्क रहे। जिला परिषद के मनरेगा एक्सईएन मनीष कुमार मीना ने बताया कि सीईओ राजेन्द्र सिंह चारण के निर्देशन में निरीक्षण दलों ने ग्राम पंचायतों में मनरेगा कार्यों की जांच पड़ताल की और मजदूरों को मास्क भी बांटे।

उन्होंने बताया कि आयुक्त, ईजीएस, ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग के दिए निर्देशों की पालना में जिले की ग्राम पंचायतों में मनरेगा योजनान्तर्गत चल रहे सभी कार्यों का 19 जून को सघन निरीक्षण कार्यक्रम निर्धारित किया गया।

जिला कार्यक्रम समन्वयक, ईजीएस डॉ.मोहनलाल यादव ने मनरेगा के विभिन्न लाइन डिपार्टमेन्ट, जिला परिषद एवं पंचायत समिति के 2-2 अधिकारी एवं कर्मचारियों की पंचायत समिति स्तरीय 55 तथा जिला स्तरीय 12 सहित कुल 67 टीमों का गठन किया गया।

निरीक्षण के उपरांत सभी जिला स्तरीय निरीक्षण दलों की मुख्य कार्यकारी अधिकारी के कार्यालय कक्ष बैठक ली गई। जिसमें दलों से निरीक्षण का फीडबैक/सुझाव लेकर आवश्यक दिशा- निर्देश भी दिए। उन्होंने बताया कि जिले की सभी पंचायत समितियों में कुल 377 कार्यों का निरीक्षण किया। जिनमें से 31 कार्यों की स्थिति संतोषप्रद नहीं पाई गई।

इस पर 70 मेट को प्रथम चेतावनी एवं 64 ग्राम विकास अधिकारी/ ग्राम रोजगार सहायक/क.सहायक तथा 13 कनिष्ठ अभियंता/क.तकनीकि सहायक को पंचायत समिति तथा जिला परिषद द्वारा नोटिस देने की कार्यवाही की।

श्रमिकों को मिले 220 रुपए मजदूरी, इसलिए निरीक्षण
मनरेगा के एक्सईएन मनीष कुमार मीना ने बताया कि मनरेगा मजदूरों को पूरी 220 रुपए की मजदूरी मिले, इसलिए धरातलीय जांच व क्रियान्वयन के लिए विशेष जांच दलों ने निरीक्षण किया। इस निरीक्षण का उद्देश्य जमीनी स्तर पर कार्य करने वाले कर्मचारी तथा कनिष्ठ तकनीकी सहायक, ग्राम विकास अधिकारी, ग्राम रोजगार सहायक, मेट तथा श्रमिकों को खास निर्देश भी दिए। ताकि गांवों में योजना का पारदर्शी तरीके से क्रियान्वयन हो और विकास कार्यों के साथ स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिले।
इन बिंदुओं पर रहा निरीक्षण का खास फोकस

  • सभी श्रमिक सुबह 6 बजे कार्यस्थल पर उपस्थित हों। समय पर नहीं आने पर समझाइश की जाए, फिर भी समय पर नहीं आए तो अनुपस्थित दर्ज कर वापस लौटा दिया जाए।
  • कार्य प्रारंभ होने पर मेट प्रत्येक श्रमिक को लेआउट देकर नियोजित कार्य किया जाए। उन्हें कितना कार्य पूर्ण करना है, यह बताया जाए ताकि उन्हेंं पूरी मजदूरी (220 रुपए) मिल सके।
  • कार्य समाप्त होने पर समूह द्वारा किए कार्य का माप लेकर मेट उन्हें उनके द्वारा किए टास्क से अर्जित मजूदरी से अवगत कराए। यदि, प्रस्तावित भुगतान 220 रुपए से कम है तो उन्हें शेष बचे टास्क को पूर्ण कराने के लिए प्रेरित किया जाए।
  • श्रमिकों द्वारा किए कार्य से गांव के लिए कोई उपयोगी संपत्ति बने।
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि के लिए ग्रह गोचर बेहतरीन परिस्थितियां तैयार कर रहा है। आप अपने अंदर अद्भुत ऊर्जा व आत्मविश्वास महसूस करेंगे। तथा आपकी कार्य क्षमता में भी इजाफा होगा। युवा वर्ग को भी कोई मन मुताबिक क...

और पढ़ें