• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Karauli
  • The Dead Body Is Kept In The Deep Freeze Outside The House, The Relatives Are Adamant On The Demand, The Officers Are Explaining, A Large Number Of Police Forces Have Been Deployed On The Spot.

4 दिन बाद भी अंतिम संस्कार पर नहीं बनी सहमति:घर के बाहर डीप फ्रीज में रखा है शव, मांग पर अड़े परिजनों से अफसर कर रहे समझाइश, मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात

करौली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घर के बाहर प्रदर्शन पर बैठे परिजन, लोग व भाजपा कार्यकर्ता। - Dainik Bhaskar
घर के बाहर प्रदर्शन पर बैठे परिजन, लोग व भाजपा कार्यकर्ता।

करौली जिला कारागृह में बंदी की संदिग्ध मौत के 4 दिन बाद भी शव का अंतिम संस्कार नहीं हो सका है। मृतक बंदी मुकेश अवस्थी का शव उसके हिण्डौन स्थित आवास पर डीप फ्रीज में रखा हुआ है। परिजन मामले में दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई, आर्थिक सहायता सहित विभिन्न मांगों के पूरी नहीं होने तक अंतिम संस्कार नहीं करने की मांग पर अड़े हुए है। अपनी मांगों को लेकर मृतक के घर के बाहर ब्राह्मण समाज के लोगों का धरना प्रदर्शन जारी है। इससे पहले लोगों ने शहर में रैली निकालकर प्रदर्शन किया। मृतक के परिजनों को आर्थिक सहायता, आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्यवाही और परिवार जनों पर लगाए गए झूठे मुकदमे वापस लेने की मांग की। मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है।

करौली के जिला अस्पताल में मृतक का पोस्टमार्टम होने के बाद मंगलवार को शव लेकर परिजन हिण्डौन आ गए, लेकिन अंतिम संस्कार नहीं किया गया। इस दौरान डीएसपी एवं विभिन्न थानों के थानाधिकारी परिजनों से समझाइश में जुटे हुए है, लेकिन सहमति नहीं बनने के कारण अंतिम संस्कार नहीं हो सका है। वहीं, भाजपा कार्यकर्ताओं ने जिले के सभी मण्डलों पर प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा।

उल्लेखनीय है कि हिण्डौन उपखंड कार्यालय के पास रहने वाले भूदेव अवस्थी के बड़े बेटे दीपक अवस्थी के खिलाफ न्यायालय के वारंट में गिरफ्तार करने पुलिस गई थी। हिण्डौन नई मंडी थाना पुलिस का छोटे भाई मुकेश अवस्थी से विरोध किया। पुलिस ने मारपीट व अनुसूचित जाति जनजाति अधिनियम के तहत 23 सितंबर को मुकेश अवस्थी को गिरफ्तार किया था। 24 सितंबर को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया, जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा में करौली जिला कारागृह भेज दिया। तबीयत खराब होने पर मुकेश अवस्थी को अस्पताल लाया गया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने झूठा मामला बनाकर मुकेश को गिरफ्तार किया। उसके साथ मारपीट की, जिससे उसकी मौत हुई है। परिजन न्याय नहीं मिलने तक मृतक मुकेश का अंतिम संस्कार नहीं करने की बात पर अड़े हुए है।

खबरें और भी हैं...