• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Karauli
  • The System Deteriorated Due To The Increase In The Number Of Patients Of Seasonal Diseases, Two To Three Patients Were Admitted On One Bed Even After The Formation Of A Separate Ward.

अस्पताल में बेड पड़े कम:मौसमी बीमारियों के मरीज बढ़ने से व्यवस्था बिगड़ी, अलग वार्ड बनने पर भी एक बेड पर दो से तीन मरीज भर्ती

करौली3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एक बेड पर तीन से चार भर्ती महिला। - Dainik Bhaskar
एक बेड पर तीन से चार भर्ती महिला।

जिला अस्पताल में मौसमी बीमारियों के मरीजों की संख्या बढ़ने से व्यवस्था बिगड़ने लगी हैं। आउडडोर के साथ ही भर्ती मरीज बढ़ने से वार्डों में बेड भी खाली नहीं हैं। आउटडोर में मरीजों का आंकड़ा 2 हजार के करीब पहुंच गया है। वहीं भर्ती रोगियों की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है। जिसके कारण चिकित्सालय की व्यवस्थाएं गड़बड़ा गई हैं और चिकित्साकर्मियों पर भी काम का बोझ बढ़ा है। अस्पताल के फीमेल वार्ड में 35 बेड है। जिसमें आज सुबह 8 बजे तक 94 मरीज भर्ती थे। एक बेड पर दो से तीन महिला रोगी इलाज करा रही हैं। यही हालत मेल मेडिकल वार्ड में है। रूटीन वार्ड के अलावा एक और वार्ड में बेड लगाया गया है। अलग वार्ड बनने के बाद भी बंड कम पड़ गए हैं। मेल वार्ड में पहले 35 बेड थे। रोगियों की संख्या बढ़ने पर एक अन्य वार्ड में 20 और बेड लगाए गए। बुधवार सुबह 8 बजे तक 121 रोगी मेल मेडिकल में भर्ती थे। मौसमी बीमारियों में खांसी, जुकाम, बुखार के अलावा लोग डेंगू बुखार की भी चपेट में आ रहे हैं। डेंगू पीड़ितों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। अस्पताल की लैब में रोजाना औसतन 70 से 90 जांच केवल डेंगू की हो रही हैं, जिनमें डेंगू रोगी मिल रहे हैं।

खबरें और भी हैं...