पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जरूरतमंदों की मदद:लोगों को राहत देने के लिए युवक ने 12 गांवों में लगवा दी 100 से ज्यादा रोड लाइट, स्कूल में सुविधाएं भी दिलवा रहा

करौली7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
करौली| समाजसेवी ने गांव में लगवाई रोड लाइट। - Dainik Bhaskar
करौली| समाजसेवी ने गांव में लगवाई रोड लाइट।
  • खरैटा गांव के भूरसिंह डागुर जरूरतमंदों की मदद कर रहा, सरकारी स्कूलों में मेधावी विद्यार्थियों के सम्मान का बीड़ा भी उठाया

विधानसभा करौली डांगक्षेत्र के गांव खरैटा निवासी युवा समाजसेवी भूरासिंह डागुर ने ग्राम विकास और सामाजिक सरोकार की गतिविधियों में सहभागिता निभाने की अनूठी नजीर पेश की है। निजी खर्चे से खरैटा सहित आसपास के 12 गांवों में सौ से ज्यादा रोड लाइट्स लगवाई हैं। इससे गांवों के प्रमुख धार्मिक व सार्वजनिक स्थल रात्रि के समय रोशनी से जगमग नजर आते हैं। वहीं गांव के सरकारी सीनियर सैकंडरी स्कूल में भी वाटर कूलर सहित हर कक्ष में सीएफएल, चार कुर्सी व पांच पंखा लगवाने में भी सहयोग राशि प्रदान कर विद्यार्थी धर्म निभाया है। साथ ही गांव में शैक्षणिक प्रतिस्पर्धा पैदा करने की मंशा से बोर्ड परीक्षाओं में 75 प्रतिशत से ज्यादा अंक लाने वाले मेधावियों को नकद राशि के साथ अन्य प्रोत्साहन सहयोग देने का भी बीड़ा उठाया है।

सरपंच ने कहा- हमारी पंचायत अच्छा काम करने वाले युवाओं का हौंसला बढ़ाने में हमेशा आगे

इन गांवों में लगवाईंरोड लाइट्स गांवों के प्रमुख चौराहे, तिराहे व आम रास्तों में रात्रि के समय अंधेरा होने से लोगों को परेशानी व चोरी की घटनाओं को रोकने में रोड लाइट्स की रोशनी कारगर साबित हो रही हैं। भूरासिंह के अनुसार 1200 प्रति लाइट्स कीमत की खरैटा में 30, मोठियापुरा 12, झिरना व बमनपुरा में 9-9, जेवर,कुंदनपुरा,नथोलेपुरा में 2-2, कोटवास व हरिरामपुरा में 4-4, प्याऊकापुरा 5,फल्लूपुरा 3 सहित मंदिर व धार्मिक स्थलों पर 100 से ज्यादा रोड लाइट्स लगवा दी हैं और डिमांड स्थलों पर भी लगवाई जाएंगी।

जरूरतमंदों की मदद की : कोरोना में 23 वर्षीय समाजसेवी भूरासिंह ने जरूरतमंदों की मंशानुरूप मदद की। मजदूर वर्ग के लोगों को 10 किलोग्राम के कॉम्बो, जिसमें आटा, दाल व मसाला के पैकेट्स बंटवाए। गांव के कई मरीज व प्रसूताओं को बीमार होने पर खुद की गाड़ी से हिंडौन व जयपुर पहुंचाया और समय पर उपचार कराने में सहयोग किया। जिनमें जसवंत जाटव, जीतेंद्र, सचिन कुमार व झिरना के रामकेश को लाभांवितों में बताया। जरूरत पड़ने पर खुद ने भी कई बार रक्तदान किया और दूसरों से भी दिलवाया। जयपुर में भी ट्रेवल्स व्यापार के दौरान खुद की इंडिगो व बोलेरो गाड़ी से उत्तराखंड, दिल्ली तक कोरोना मृतकों के शव भी पहुंचाए।पौधरोपण से पर्यावरण जागरुकता पर जोर: भूरासिंह ने हनुमान मंदिर व चरागाह भूमि पर विभिन्न किस्मों के सौ से अधिक पौधे लगाने में पर्यावरणप्रेमी की भूमिका निभाई है।

मेधावियों की हौंसला-अफजाई के लिए नकद इनाम: कक्षा दसवीं बोर्ड में 75% से अधिक अंक लाने पर 5100 रुपए नकद इनाम के तौर पर छात्र अवधेश जाटव खरैटा को पुरस्कृत किया। पौंछडी निवासी रेनू चौधरी को भी उच्च शिक्षा प्रवेश के दौरान संस्थागत छूट राशि दिलाने में सहयोग कर हौंसला-अफजाई की। सरकारी स्कूलों में मेधावी बच्चों को पठनीय सामग्री, पोशाक आदि में भरपूर सहयोग करने का काम जारी है।

खबरें और भी हैं...