पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मरीजों की जान से खिलवाड़:गांवों में झोलाछाप डॉक्टर कोरोना मरीजों का कर रहे उपचार, संक्रमण बढ़ने का खतरा

करौली2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रशासन की रोक के बावजूद भी झोलाछाप डॉ, वायरल खांसी जुकाम से पीड़ित मरीजों का अपनी दुकान पर उपचार करते हुए। - Dainik Bhaskar
प्रशासन की रोक के बावजूद भी झोलाछाप डॉ, वायरल खांसी जुकाम से पीड़ित मरीजों का अपनी दुकान पर उपचार करते हुए।

कोरोना संक्रमण के कारण लोग बिना डिग्री वाले चिकित्सकों से इलाज करा रहे हैं। टोडाभीम उपखंड के ग्रामीण इलाको में झोलाछाप डॉक्टर बिना पंजीयन के क्लीनिक चल रहे हैं। इन दिनों मौसम से संबंधित सहित अन्य बीमारियों से बड़ी संख्या मे लोग पीड़ित हो रहे हैं। कोरोना संक्रमण के कारण कुछ लोग इन दिनों अस्पताल जाने से बच रहे हैं।

इस समय लोग कोविड महामारी से जूझ रहे हैं। अस्पतालों में उपचार और स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी से मरीज बेहाल है। कुड़गांव सीएससी क्षेत्र की ग्राम पंचायतों में बीमारियों के पैर पसारने से घर-घर में खांसी जुकाम बुखार के मरीज बढ़ रहे हैं। ऐसे में कई लोग बिना डिग्री वाले इन झोलाछाप डॉक्टरों से ही इलाज करा रहे है। जिले से बाहर कई स्थानों पर कोरोना के मरीजों के मामले में यह स्थिति सामने भी आई है।

जब संक्रमित मरीज ने सरकारी अस्पताल में दिखाने से पहले निजी क्लीनिक या झोलाछाप डॉक्टरों से उपचार कराया। ऐसे में मरीजों की जान पर भी बन आती है। सरकारी अस्पताल में डॉक्टर, स्टाफ व संसाधनों की कमी है। वहीं दूसरी ओर वर्तमान में सिर्फ कोरोना से पीड़ितों पर ध्यान दिया जा रहा है। ऐसे में स्वास्थ्य संबंधी अन्य समस्या होने पर लोगों को निजी क्लीनिक या झोलाछापों का ही सहारा लेने पहुंच रहे हैं।

विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों मे झोलाछाप डॉक्टरों का काम तेजी से और बेरोक टोक चल रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में इन निजी क्लीनिकों के द्वारा लोगों से उपचार के नाम पर मोटी रकम वसूली जा रही है। पूर्व में भी झोलाछाप डॉक्टरों के इलाज से लोगों की सेहत बिगड़ने के मामले सामने आ चुके हैं। लोगों का कहना है कि इन चिकित्सकों की लापरवाही विकराल रूप धारण कर सकती हैं।

सामाजिक कार्यकर्ता एवं गणमान्य नागरिकों ने जिला प्रशासन व स्थानीय प्रशासन का इस ओर ध्यान आकर्षित करते हुए मांग की है कि नगर में चारों तरफ फैले हुए झोलाछाप डॉक्टरों की सघन जांच की जाए। यदि डिप्लोमा एवं डिग्री फर्जी हो तो उनके खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जाए। नहीं तो इसका परिणाम बहुत ही घातक हो सकता हैं।

एक हाल में सैकड़ों मरीज भरे जा रहे हैं न तो भर्ती मरीजों का लेखा-जोखा रखा जा रहा है और ना ही कोई भी मरीजों की इंट्री की जा रही ही है। कौन मरीज कहा से आया व कौन सी बीमारी थी, सर्दी, जुखाम, खाँसी वाले मरीज सरकारी हॉस्पिटल जाने से डरते है। कही कोरोना की जांच न हो जाए, ऐसे में झोला छाप ऐसे मरीजों से भारी पैसे ऐंठते हैं। प्रशासन को इस ओर ध्यान देना आवश्यक हैं।

इन स्थानों पर हो रहे प्राइवेट क्लीनिक संचालित

कई स्थानों पर प्राइवेट क्लीनिक संचालित की जा रही है। जिनकी संख्या करीब पांच दर्जन के लगभग हैं। लपावली, मुंडियां, महमदपुर, जगदीशपुरा, देवलेंन गांव सहित मोहल्लों, गलियों व बस्तियों में चल रही हैं। कस्बे में इन क्लीनिकों में काेराेना गाइड लाइन का पालन भी नहीं हाे रहा है।

कस्बे में में झोलाछाप डॉक्टरों की भरमार हो गई हैं न कोई डिग्री न डिप्लोमा बस कही भी किसी डॉक्टर के पास एक दो महीने बैठकर कुछ सीखा और इलाज में लग गए। इन चिकित्सकों को अपनी जान की परवाह भी नहीं है तो यह दूसरों का उपचार कैसे करेंगे। क्योंकि क्लीनिकों पर कोरोना के गाइड लाइन का पालन भी नहीं किया जा रहा हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें