दोहरी बांध लघु सिंचाई परियोजना:मकान के बदले मकान व खेत के बदले खेत नहीं मिलेगा तब तक नहीं छोडे़ंगे पुराना हक

करौली8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
करणपुर। दोहरी बांध सिंचाई स्थल पर मुआवजे के लिए प्रदर्शन करते किसान। - Dainik Bhaskar
करणपुर। दोहरी बांध सिंचाई स्थल पर मुआवजे के लिए प्रदर्शन करते किसान।
  • ग्रामीणों ने प्रदर्शन कर काम रूकवाया

करणपुर नानपुर ग्राम पंचायत के चौरघान गाव के समीप करीब 47 करोड रूपए की दोहरी बांध लघु सिंचाई परियोजना के चल रहा निर्माण कार्य पर सोमवार को प्रदर्शन कर फिर एक बार दोहरी भर्रपुरा गाव के विस्थापित किए जाने बाले 85 परिवार के लोगो ने कार्य बंद करा दिया है ।विस्थापित किए जाने बाले किसानो ने 7 अप्रैल को विरोध करते हुए जिला कलेक्टर को मांग पत्र भेजकर बताया गया कि विस्थापन पुरानी सर्वे के अनुसार ही मुुुुआवजा दिए जाने की मांग की और 5 दिन का प्रशासन कोसमय भी दिया गया था। ग्रामीणों ने बताया कि प्रशासन को दिए गए अल्टीमेटम का समय पूरा हो गया है और दोहरी भर्रपुरा के किसानों से बांध क्षेत्र से विस्थापन के बारे में प्रशासन द्वारा वार्ता नहीं करने पर असंतुष्ट किसानों ने बांध क्षेत्र का कार्य सोमवार को बंद करा दिया है उन्होने कहा कि जब तक उन्हे मकान के बदले मकान व खेत के बदले खेत नही मिलेगा तब तक वह अपना पुराना हक नही छोडेगे।

जबकी प्रशासन के अनुसार दिए जाने वाले मुआवजे से वह संतुष्ट नही है। अब उन्होने 13 अप्रैल से उप तहसील कार्यालय पर धरना दिए जाने की चेतावनी दी है। इसकी सूचना नायब तहसीलदार बाबू खां व सपोटरा उप जिला कलेक्टर ओमप्रकाश मीना को दूर संचार के माध्यम से दी है ।वही सिंचाई परियोजना के इंजीनियर विनोद कुमार मीना ने प्रदर्शन कर रहे लोगो से वार्ता की लेकिन वह सहमत नही हुए। इस दौरान उपस्थित किसान रामप्रसाद माली, दयाल माली, गिर्राज माली, जगदीश माली, राधे माली हरी माली, भगवती माली, कुढेरी माली, रामकुमार माली, उम्मेद माली, खिलाड़ी माली, द्वारका माली, गज्जू माली, सूका माली, दिवारी लाल माली, कल्ला माली, कुढेरी माली दोहरी सहित पांच दर्जन से अधिक किसान मौजूद रहे

एफसीआई द्वारा गेहूं खरीद में तुलाई के नाम पर अवैध वसूली प्रदर्शन

हिंडौनसिटी (ग्रामीण)|उपखंड मुख्यालय पर मंडावरा के पास कृषि उपज मंडी में एफसीआई द्वारा समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीद में तुलाई के नाम पर अवैध वसूली व क्षेत्र के किसानों की फसल की तुलाई नहीं करने पर दर्जनों किसानों ने सामाजिक कार्यकर्ता कृष्णा सौमली के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन कर तहसीलदार को ज्ञापन दिया।किसान भरतराम डागुर, सुरेश चौधरी, विवेक डागुर, वीरेंद्र खजूरी, सुखबीर डागुर, हिटलर जाट, विष्णु चिनायठा सहित कई किसान ने तहसीलदार को अवगत कराया कि उन्हें जानकारी ली समर्थन मूल्य पर हिंडौन कृषि उपज मंडी में किसानों की गेंहू की उपज की खरीद की जा रही है। इस पर क्षेत्र के किसान अपनी फसल को लेकर मंडी पहुंचे तो कर्मचारियों ने गेहूं की फसल को खरीदने से मना कर दिया। जबकि कई किसानों की फसल की तुलाई की जा रही है जिस पर तुलाई के नाम पर 500 रुपए सुविधा शुल्क के रूप में लिए जा रहे हैं। इसका उन्होंने विरोध किया तो एफसीआई के कार्मिकों ने उनकी कोई बात नहीं सुनी।

सुविधा शुल्क देने पर खरीद रहे हैं गेंहूं किसानों ने आरोप लगाया कि एफसीआई द्वारा खरीद केन्द्र पर एफसीआई के कार्मिकों को जो सुविधा शुल्क दे देता है उसकी फसल को कार्मिकों द्वारा खरीद की जा रही है और जो सुविधा शुल्क देने से मना कर रहा है उसकी फसल को नहीं खरीदा जा रहा है। इसपर किसानों ने मंडी में एफसीआई के अधिकारी व कर्मचारियों के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन किया। इसके साथ ही उन्होंने उच्चाधिकारियों को दूरभाष पर अवगत कराया। जिस पर तहसीलदार ने एफसीआई के अधिकारियों को फसल तुलाई के निर्देश दिए इसके बावजूद भी एफसीआई के कर्मचारियों ने किसानों की फसल को खरीदने से मना कर दिया।

खबरें और भी हैं...