पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मगरमच्छ का रेस्क्यू:मेई कलां गोशाला में मगरमच्छ का रेस्क्यू

खंडार15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

उपखंड मुख्यालय खंडार क्षेत्र की ग्राम पंचायत मेई कलां की गौशाला में सोमवार को पांच फुट लंबा मगरमच्छ घुस आया। जिससे गौशाला में अफरा तफरी का माहौल बन गया। वहीं मौके पर लोगों की भीड़ लग गई। सूचना पर रणथंभौर राष्ट्रीय अभयारण्य की खंडार रेंज की टीम मौके पर पहुंची तथा मगरमच्छ का रेस्क्यू कर गिलाईसागर बांध में छोड़ा गया।अल सुबह करीब 6 बजे मेई कलां की गौशाला में रणथंभौर राष्ट्रीय अभयारण्य के जलस्स्रोतों से निकलकर लोड का खाड़ से होते हुए एक मगरमच्छ पहुंच गया। गौशाला में अचानक से मगरमच्छ को घूमते देखकर गौशाला स्टाफ घबरा गया और वहां अफरा तफरी का माहौल पैदा हो गया।

बाद में स्टाफ द्वारा इसकी सूचना रणथंभौर अभयारण्य प्रशासन को दी गई, जिसपर तत्काल 7 बजे वन विभाग की रेस्क्यू टीम मौके पर पहुंची तथा करीब 1 घंटे की मशक्कत के बाद मगरमच्छ का रेस्क्यू करने में टीम ने सफलता हासिल की। इस दौरान मगरमच्छ को लकड़ी व अन्य संसाधनों की सहायता से रस्सी से बांधकर वन विभाग के वाहन में डालकर उसे अभयारण्य के गिलाईसागर बांध में छोड़ा गया। वन विभाग की टीम ने बताया कि मगरमच्छ की लंबाई लगभग 5 फुट थी तथा उसका वजन 30 किलो था। दूसरी ओर मेई कलां के ग्रामीणों ने बताया कि गांव की गौशाला में मगरमच्छ के पहुंचते ही सबसे पहले राष्ट्रीय चंबल अभयारण्य प्रशासन को इसकी सूचना दी गई थी लेकिन चंबल अभयारण्य का कोई भी अधिकारी व कर्मचारी मौके पर भी नहीं पहुंचा।

खबरें और भी हैं...