पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

ई मित्र संचालकों की लापरवाही:बैंक खातों से जनाधार लिंक नहीं, 15 हजार छात्रों की छात्रवृत्ति अटकी

खंडार11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरकार से जारी होने के बाद भी जनाधार कार्ड अब तक वितरित नहीं, ई मित्रों में धूल फांक रहे हैं कार्ड

बैंक खातों में जनाधार लिंक नहीं होने से क्षेत्र के लगभग 15 हजार विद्यार्थियों की छात्रवृत्ति अटकने का मामला सामने आया है। राज्य सरकार ने भामाशाह कार्ड का नाम बदलकर उसे जनाधार कार्ड में परिवर्तित किया है। सरकार ने जनाधार कार्ड क्षेत्र के ई मित्र केंद्रों पर लंबे समय से भिजवा दिए हैं। ई मित्र केंद्र संचालकों की लापरवाही के चलते अब तक क्षेत्र के अधिकतर छात्र-छात्राओं एवं उनके अभिभावकों तक जनाधार कार्ड नहीं पहुंचा है। संबंधित ई मित्र केंद्र संचालकों द्वारा समय पर लोगों को जनाधार कार्ड का वितरण नहीं करने से जनाधार कार्डों के पुलिंदे ई मित्र केंद्रों पर धूल फांक रहे हैं। ऐसे में अधिकांश विद्यार्थियों एवं अभिभावकों के बैंक खातों में भामाशाह की जगह जनाधार कार्ड लिंक नहीं हो पाया है। इसी के चलते क्षेत्र के करीब 15 हजार विद्यार्थियों की छात्रवृत्ति बैंक खातों में नहीं डल पा रही है। 30 सितंबर तक बैंक खातों में जनाधार लिंक होना आवश्यक है। शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि खंडार उपखंड क्षेत्र में प्राथमिक, उच्च प्राथमिक, माध्यमिक व उच्च माध्यमिक स्तर के कुल 166 राजकीय विद्यालय है तथा 81 निजी विद्यालय है।

स्कूलों में मिलने वाली छात्रवृत्ति कुल 18 तरह की होती है। इनमें प्रमुख रूप से एससी, एसटी व ओबीसी केटेगरी वाले विद्यार्थियों की छात्रवृत्ति होती है। पूर्व मैट्रिक छात्रवृत्ति में कक्षा 1 से 10 तक के विद्यार्थी तथा उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति में कक्षा 11 से 12 तक के विद्यार्थी शामिल रहते है। बैंक खातों में जनाधार लिंक नहीं होने से यह दोनों ही प्रभावित होने से छात्रवृति नहीं डल पा रही है। पहले यह छात्रवृत्ति स्कूलों से डलती थी। इस बार सरकार ने पिछले वर्ष विद्यार्थियों द्वारा भरे हुए फार्मों को ही स्वीकार कर लिया है और आय व साधारण घोषणा पत्र लेकर क्लीक करने के निर्देश दिए हंै। सिर्फ नए विद्यार्थियों के ही फार्म भरे जा रहे हैं। छात्रवृत्ति का यह पूरा मामला जनाधार से लिंक होने पर ही ओके होगा। कोरोना काल के चलते अभी स्कूलों में सिर्फ स्टाफ ही पहुंच रहा है जबकि विद्यार्थी नहीं आ रहे हैं। ऐसे में जनाधार कार्ड लिंक कराने का यह कार्य स्कूल प्रशासन के लिए एक बड़ी चुनौति बना हुआ है। इसके लिए प्रधानाचार्यों ने कक्षा अध्यापकों को इस कार्य को पूर्ण कराने की जिम्मेदारी सौंपी है। कक्षा अध्यापक सुबह से शाम तक विद्यार्थियों एवं उनके अभिभावकों को फोन कर सूचित करने में जुटे हुए हैं। उन्होंने बताया कि क्षेत्र के अधिकतर विद्यार्थियों एवं अभिभावकों को भामाशाह के जनाधार में परिवर्तित होने तथा जनाधार को बैंक खातों में लिंक कराने के इस मामले का पता ही नहीं है। जानकारी के अभाव में इस कार्य को क्षेत्र में पूरा करना एक चुनौति पूर्ण विषय बना हुआ है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें