समस्या / दो कृषि पर्यवेक्षकों पर 16 पंचायतों का भार

X

  • एक-एक कृषि पर्यवेक्षक को 8-8 ग्राम पंचायतों का भार उठाना पड़ रहा है

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

खंडार. उपखंड मुख्यालय खंडार क्षेत्र में कृषि महकमें की स्थित दयनीय बनी हुई है। क्षेत्र में ना तो कृषि अधिकारियों के पूरे पद भरे हुए है और ना हीं कृषि पर्यवेक्षकों के। ऐसे में एक-एक कृषि पर्यवेक्षक को 8-8 ग्राम पंचायतों का भार उठाना पड़ रहा है। इतना ही नहीं उन्हें विभागीय कांम काज के अलावा सरकारी खरीद केंद्रों एवं कोराना में भी अपनी सेवाएं देनी पड़ रही है। जबकि वर्तमान में क्षेत्र में पाकिस्तानी टीड्‌डीयों का आतंक भी बना हुआ है। वहीं कृषि महकमें में अफसरों व कर्मचारियों की कमी के चलते कृषि विभाग की महत्वपूर्ण योजनाओं के लिए किसान विभागीय कार्यालयों के चक्कर काटने को मजबूर है।
खंडार में सहायक कृषि अधिकारी का पद खाली
कृषि विभाग से मिली जानकारी के अनुसार उपखंड मुख्यालय खंडार पर सहायक कृषि अधिकारी का पद खाली पड़ा हुआ है। इसके अंतर्गत आने वाली 7 ग्राम पंचायतों खंडार, बरनावदा, नायपुर, खिदरपुर जादौन, अनियाला, तलावड़ा व गोठबिहारी में स्वीकृत 4 पदों में से 2 पद लंबे समय से खाली पड़े हुए हैं।
बहरावंडा कलां का कोई धणी- धोरी नहीं इसी तरह उपतहसील मुख्यालय बहरावंडा कलां में सहायक कृषि अधिकारी कार्यालय का कोई धनी धोरी ही नहीं है। यहां सहायक कृषि अधिकारी का पद लंबे से समय से रिक्त है। वहीं इसके क्षेत्र अंतर्गत आने वाली 9 ग्राम पंचायतों बहरावंडा कलां, सिंगोर कलां, अक्षयगढ़, रेड़ावद, कोसरा, बिचपुरी गुजरान, क्यारदा कलां, बालेर व कुरेड़ी में कृषि पर्यवेक्षकों के 6 पद स्वीकृत है जो वर्तमान में सभी खाली पड़े हुए है। ऐसे में इस ईलाके में पूरा कृषि महकमा भगवान भरोसे ही है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना