पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

बाघ की दहशत:ईटावदा में दूसरे दिन भी बाघ का डेरा

खंडार14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जहां बाघ है वहां वन विभाग की टीम का पहुंचना संभव नहीं, कैमरों से नजर

रणथंभौर राष्ट्रीय अभयारण्य के बाघ का दूसरे दिन शनिवार को भी ईटावदा गांव में डेरा कायम रहा। जिससे गांव सहित आसपास के पूरे इलाके में बाघ की दहशत बरकरार रही। दूसरी ओर खंडार क्षेत्रीय वनाधिकारी मोहनलाल गर्ग के नेतृत्व में वन विभाग की विभिन्न टीमे मौके पर तैनात रहकर बाघ के हर पल के मूवमेंट पर पैनी नजर बनाए हुए है। साथ ही ग्रामीणों से बाघ वाले इलाके से दूरी बनाकर रखने की अपील भी की जा रही है। मौके पर बाघ पर रात दिन नजर रख रही वन विभाग की टीम ने बताया कि गाय के शिकार की घटना के बाद शुक्रवार शाम को घटनास्थल व उसके आसपास के क्षेत्र में करीब 6 स्थानों पर वन विभाग द्वारा कैमरे लगाए गए थे लेकिन बाघ का एक भी कैमरे में फोटो ट्रेप नहीं हो पाया है। ऐसे में अभी यह पता नहीं चल पाया है कि ईटावदा गांव की आबादी में गाय का शिकार करने वाला बाघ कौनसा है। हालांकि संभावना यह जताई जा रही है कि शिकारी बाघ टी 65 या टी 3 हो सकता है। टीम ने बताया कि ईटावदा गांव के स्कूल के नजदीक भौमियाजी के पास आम रास्ते में शिकार की यह घटना हुई है। घटना के बाद बाघ अपने शिकार को घसीट कर गिलाईसागर बांध की तरफ जाने वाले रास्ते में ले गया था तथा ग्रामीणों का शौरगुल होने पर बाघ शिकार को छोड़कर आसपास ही कहीं छिप गया था। बाद में बाघ दोबारा से दोपहर में शिकार पर पहुंचा था तथा वन विभाग के कैमरे लगाने से पहले ही बाघ वहां से शिकार को करीब 300 मीटर दूर घनी झाड़ियों में ले गया था तथा रात भर बाघ ने वहीं पर अपने शिकार को खाया है। टीम ने बताया कि वर्तमान में बाघ और शिकार जहां पर है वहां टीम का पहुंचना संभव नहीं है क्योंकि वहां झाड़ियां इतनी घनी है कि वहां तक पहुंचने का कोई रास्ता भी नहीं है और वर्तमान में संभतया बाघ वहीं पर है। ऐसे में वहां जाने में खतरा है। वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि अधिकतर बाघ जब भी कहीं पर शिकार करता है तो वह उस ईलाके से तब तक नहीं जाता जब तक वह अपने शिकार को पूरी तरह से समाप्त नहीं कर देता। यहां भी बाघ लगातार अपने शिकार को खा रहा है। रविवार रात तक बाघ अपने शिकार को समाप्त कर अभयारण्य में लौट सकता है।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - धर्म-कर्म और आध्यामिकता के प्रति आपका विश्वास आपके अंदर शांति और सकारात्मक ऊर्जा का संचार कर रहा है। आप जीवन को सकारात्मक नजरिए से समझने की कोशिश कर रहे हैं। जो कि एक बेहतरीन उपलब्धि है। ने...

और पढ़ें