पतंग के कारोबार पर कोरोना का असर:मकर सक्रांति पर नहीं दिख रहे पतंग बाज, व्यापारियों के सामने रोजगार बचाने का संकट

कोटपूतली4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोटपुतली में मकर सक्रांति के पर्व पर जहां बाजारों में पतंग बाजों की भीड़ रहती थी। इस बार कोरोना के संक्रमण की वजह से पतंग बाज पतंग की दुकानों पर नहीं दिख रहे हैं। जिससे पतंग के कारोबार को काफी बड़ा झटका लगा है। पतंग के कारोबार से जुड़े कारोबारियों के सामने रोजगार को बचाने का संकट आ गया है।

कोरोना और मंहगाई दोनों डाल रही व्यापार पर असर - सीताराम टेलर

इस बार कोरोना संक्रमण के लगातार मरीज आने की वजह से पतंग की दुकानों पर भीड़ नहीं है। वहीं पतंग के कारोबार से जुड़े सीताराम टेलर बताते हैं कि कागज महंगा हो जाने के कारण पिछले वर्ष जो पतंग एक रुपए में बिक रहा था वह इस बार ₹2 रुपए में बिक रहा है। उनके अनुसार बढ़ती महंगाई का असर त्योहार पर भी पड़ने लगा है। उन्होंने आगे बताया कि सीजनल काम से हमारा गुजारा चलता है लेकिन इसी तरह से अगर काम धंधे प्रभावित होने लगेंगे तो बेरोजगारी बढ़ेगी।

खबरें और भी हैं...