ट्रेलर से भिड़ी कार, मामा-भांजे सहित 3 की मौत:भांजी के टीके में आया था मामा, दिल्ली-जयपुर नेशनल हाईवे पर एक्सीडेंट

कोटपूतली (जयपुर)3 महीने पहले
ट्रेलर की टक्कर के बाद कार का आगे का हिस्सा बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। शनिवार देर रात बारात में जा रही कार हादसे का शिकार हो गई थी।

दिल्ली-जयपुर नेशनल हाईवे पर शनिवार देर रात करीब 10 बजे ट्रेलर और स्विफ्ट कार में जोरदार भिड़ंत हो गई। कार डिवाइडर से टकराकर पलट गई। मामा-भांजा सहित तीन लोगों की माैत हो गई। एक युवक गंभीर रूप से घायल है। हादसा कोटपूतली (जयपुर) के भाबरू में नींझर मोड़ के पास हुआ।

पुलिस ने बताया कि कार में 4 लोग थे। ये लोग बाड़ीजोड़ी (शाहपुरा) से श्यामपुरा (विराटनगर) बारात में जा रहे थे। इस दौरान निंझर मोड के पास ट्रेलर और कार में टक्कर हो गई। टक्कर इतनी तेज थी कि कार के परखच्चे उड़ गए। उसमें सवार लोग फंस गए। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। कड़ी मशक्कत के बाद उन्हें बाहर निकाला जा सका। रात करीब 10.32 बजे शाहपुरा अस्पताल में घायलों को भर्ती कराया गया। यहां दिनेश रैगर (23) और गौतम रैगर (33) को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। प्राथमिक उपचार के बाद जितेंद्र चांदोलिया ​​​​​(22)​​ और सुभाष चंदोलिया (28) को जयपुर एसएमएस में रेफर कर दिया। देर रात इलाज के दौरान जितेंद्र ने दम तोड़ दिया। एक साथी सुभाष जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहा है।

मामा गौतम एक दिन पहले बाड़ीजोड़ी (शाहपुरा) में भांजी के लगन टीके के प्रोग्राम में अपने बेटे के साथ आया था। भांजे दिनेश और सुभाष ने अगले दिन मामा के साथ पड़ोसी की बारात में जाने की योजना बनाई थी। भांजों के कहने पर गौतम रुक गया था। शनिवार शाम को बारात में शामिल हुए थे। फिर दो भांजे दिनेश और सुभाष के साथ श्यामपुरा (विराटनगर) शादी में जा रहा था। बाड़ीजोड़ी का ही एक युवक जितेंद्र साथ में था।

हादसे में गंभीर रूप से घायलों को हॉस्पिटल भेजा गया। ट्रेलर को पुलिस ने जब्त कर लिया है, जबकि ड्राइवर फरार है।
हादसे में गंभीर रूप से घायलों को हॉस्पिटल भेजा गया। ट्रेलर को पुलिस ने जब्त कर लिया है, जबकि ड्राइवर फरार है।

भाबरू थाने के ASI कश्मीर सिंह ने बताया कि हादसे के बाद ट्रेलर ड्राइवर मौके से फरार हो गया। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है। दिनेश, जितेंद्र और सुभाष बाड़ीजोड़ी (शाहपुरा) के रहने वाले हैं। गौतम सीकर के श्रीमाधोपुर में हासपुर तहसील का रहने वाला है। सूचना के बाद पुलिस हाईवे पर नाकाबंदी करवाई गई। मनोहरपुर के पास ट्रेलर को पकड़ा गया। ड्राइवर फरार है।

गाड़ी चलाता था गौतम
गौतम के भतीजे कृष्ण कुमार ने बताया- चाचा (गौतम) ड्राइवर थे। बुकिंग पर गाड़ी चलाते थे। 18 नवंबर को शाहपुरा के बाड़ीजोड़ी में बहन मीरा देवी की बेटी के लगन प्रोग्राम में गाड़ी से गए थे। लगन होने के बाद उनके भांजों ने कहा कि गांव में परिचित की शादी है। बारात में चलेंगे। इस पर रुक गए थे। शनिवार शाम को अपने भांजे दिनेश और सुभाष और उसके गांव के एक युवक के साथ चार लोग स्विफ्ट डिजायर से बारात में गए थे। गौतम और भांजा दिनेश गाड़ी में आगे की सीट पर बैठे थे। सुभाष और जितेंद्र पीछे बैठे थे।

बेटा बारात नहीं गया, इसलिए बचा
गौतम रैगर की तीन बेटी और एक बेटा है। बड़ी बेटी खुशी 11वीं कक्षा में पढ़ रही है। सबसे छोटा बेटा सन्नी 6 साल का है। सन्नी भी अपने पापा के साथ बाड़ी जोड़ी गया था, लेकिन बारात में नहीं गया। इससे उसकी जान बच गई। गौतम तीन भाई थे। दिनेश और जितेंद्र दोनों बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन का काम करते थे। घायल सुभाष भी इनके साथ काम करता है।