बुचारा बांध का अस्तित्व बचाने की मांग:आईजी और एसपी से मिले ग्रामीण, अवैध खनन पर सख्ती का मिला आश्वासन

कोटपूतली10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोटपूतली के पास बुचारा बांध को बचाने के लिए आज खनन ग्रस्त संघर्ष समिति के नेतृत्व में एक शिष्ट मंडल ने आईजी और एसपी को ज्ञापन सौंपा। समाज सेवक राधे श्याम शुक्लाबास ने बताया कि बुचारा बांध जो कि हमारी विरासत कालीन धरोहर है और जिला जयपुर, अलवर, सीकर सहित पटौदी ( हरियाणा) तक के किसानों कि लाइफ लाइन है। पीछले कुछ महीनों से खनन माफिया ने इसको छलनी कर दिया है।

बुचारा बांध को बचाने के लिए राधेश्याम शुक्लावास खनन ग्रस्त संघर्ष समिति के नेतृत्व में एक शिष्ट मंडल आईजी उमेश चंद्र दत्ता और जयपुर ग्रामीण पुलिस अधीक्षक मनीष अग्रवाल से मिले। इस दौरान आईजी उमेश चंद्र दत्ता और वर्तमान जयपुर ग्रामीण पुलिस अधीक्षक मनीष अग्रवाल को सख्त कार्रवाई के लिए मुख्यमंत्री के आदेशों से अवगत करवाया। जिस पर एसपी ने मौके पर आरएसी के जवानों की तैनाती रात दिन करने सहित एडीशनल एसपी विधा प्रकाश और डीवाईएसपी विराटनगर संजीव चौधरी के साथ थाना प्रभारी प्रागपुरा किरण यादव को शिष्ट मंडल के सामने ही फ़ोन पर बुचारा बांध में अवैध खनन को रोकने के लिए निर्देशित किया।

साथ ही जयपुर ग्रामीण पुलिस अधिक्षक मनीष अग्रवाल ने बुचारा बांध के एरिया में एक भी पत्थर का अवैध खनन नहीं होने का ठोस आश्वासन दिया। इस दौरान राधेश्याम शुक्लावास ने बताया कि अब उम्मीद है कि राज्य के किसानों व सामाजिक संगठनों के साझा प्रयास सफ़ल होंगे। इस मौके पर दलीप सिंह पहलवान, सामाजिक कार्यकर्ता पुरण यादव लाडाकाबास, शीश राम गुर्जर सरपंच प्रतिनिधि बुचारा तथा जयपुर से कविता श्रीवास्तव, निशा सिद्धू, सवाई सिंह, निखिल डे, कमल कुमार, मुकेश गोस्वामी, कैलाश मीणा नीमकाथाना, किसान नेता बनवारीलाल कूडी फूलेरा, शैतान सिंह गुरूजी किसान नेता, रामकरण गुर्जर रामपुरा किसान नेता सहित हजारों लोगों का समर्थन रहा है।

खबरें और भी हैं...