मेहनत रंग लाई / बडापुरा में मनरेगा के तहत बने एनिकट में पानी आने से ग्रामीणों की उम्मीदों को लगे पंख

Villagers hope for water in Enicut to be built under MGNREGA in Badapura
X
Villagers hope for water in Enicut to be built under MGNREGA in Badapura

  • माय विलेज ग्रुप के सदस्यों के जल संग्रहण प्रयास रंग लाए

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

मासलपुर. मासलपुर के गांवों में पानी के संकट के चलते पिछले सालों से ग्रामीणों को समस्या हो रही है। इसके लिए मासलपुर तहसील की ग्राम पंचायत भावली के गांव बडापुरा में माय विलेज ग्रुप के सदस्यों के प्रयासों के बाद बडापुरा में मनरेगा के तहत एनिकट निर्माण के लिए 12 लाख की राशि स्वीकृत हुई है। इस राशि से यहां पर एनिकट निर्माण का कार्य चल रहा है। इस दौरान चार दिन पूर्व हुई बरसात का एनिकट में जल संग्रहण देखकर गांव के लोगों को पेयजल की समस्या से निजात मिलने की संभावना दिखाई देने लगी है। वहीं मनरेगा के तहत चल रहे एनिकट निर्माण कार्य में करीब 150  प्रवासी और स्थानीय मजदूरों को रोजगार भी मिल रहा है। माय विलेज ग्रुप के सदस्यों ने बताया कि उनके गांव बडापुरा में भूजल स्तर कम होने से गर्मी के दिनों में नलकूपों से पानी छोडने लग जाता है। ऐसे हालात में गर्मी के दिनों में गांव के लोगों को पेयजल की समस्या से जूझना पड़ता है। इसके लिए माय विलेज ग्रुप के सदस्यों ने ग्राम पंचायत के वार्षिक प्लान में गांव के पानी को गांव में ही रोकने के लिए मनरेगा के तहत एनिकट निर्माण के प्रस्ताव को प्रमुखता से रखा। ग्रामीणों की मांग पर करौली पंचायत समिति के विकास अधिकारी श्रीराम मीना ने गांव में पानी की समस्या को देखते हुए जल संग्रहण के लिए गांव के पास एनिकट निर्माण के लिए मनरेगा के तहत 12 लाख की वित्तीय स्वीकृति जारी कराई है। इसके तहत एनीकट का निर्माण कार्य चल रहा है। माय विलेज ग्रुप के सदस्यों ने बताया कि ग्राम पंचायत के वार्षिक प्लान के दौरान गांव के युवाओं को जागरूकता से गांव के विकास के प्रस्तावों को दर्ज कराने की जरूरत है। इससे गांवों में समुचित विकास संभव है।
 गौरतलब है कि मासलपुर तहसील के गांव बडापुरा में पिछले सालों में माय विलेज ग्रुप के सदस्यों द्वारा अपनी आय का एक फीसदी भाग गांव के विकास फंड में जमा कराया गया। इससे स्कूल की चारदीवारी का निर्माण एवं पेयजल की व्यवस्था, गांव के रास्तों को चौडा करने के लिए अतिक्रमणों को हटाकर स्वच्छता अभियान चलाया। गांव में पानी की सुचारू व्यवस्था के लिए पाईप लाईन डालकर गांव में पानी पहुंचाया।
बडापुरा के इस ग्रुप द्वारा कोरोना संकट के दौरान खाद्यान्न की समस्या से जूझ रहे निर्धन परिवारों को रसद वितरण कराया है।इसके साथ जल संग्रहण के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे है। इसके सार्थक परिणाम मिलने लगे है। माय विलेज ग्रुप के सदस्यों का कहना है कि गांव के पानी को गांव में रोकने के लिए सभी गांवों में इस तरह के प्रयास कर गांवों में पानी की समस्या का स्थाई समाधान संभव है। इस बार मनरेगा के तहत एनीकट निर्माण कराया जा रहा है। इस पर अभी तक 26 दिन कार्य चला है। इस दौरान लगभग 4 लाख का कार्य हो चुका है। इस दौरान बरसात का पानी एनीकट में संग्रहित हो गया है। अभी इसमें 8 लाख का कार्य कराया जाना है, इसके बाद एनीकट में जल भराव से गांव में भूजल स्तर बढेगा। वही एनीकट में पहली बरसात के पानी का संग्रहण को देखकर ग्रामीणों को एनीकट निर्माण के बाद गांव में पानी की समस्या से निजात मिलने की संभावना दिख रही है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना