• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • 100 Days Of Water Left In The Dam, If Monsoon Is Normal Then Supply Will Be Less, Once In 3 4 Days Supply Will Come In Ajmer

जयपुर में हो सकता है जल संकट:बीसलपुर बांध में 100 दिन का पानी बचा, मानसून सामान्य रहा तो सप्लाई कम होगी; अजमेर में हफ्ते में एक बार सप्लाई की आ सकती है नौबत

जयपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अभी बीसलपुर बांध में पानी रोज 1.20 सेमी नीचे जा रहा है। अब बांध में कुल क्षमता का  24.75 फीसदी पानी बचा है। - Dainik Bhaskar
अभी बीसलपुर बांध में पानी रोज 1.20 सेमी नीचे जा रहा है। अब बांध में कुल क्षमता का 24.75 फीसदी पानी बचा है।

प्रदेश में इन दिनों भीषण गर्मी के कारण लोगों का हाल बेहाल है। हर कोई मानसून का इंतजार कर रहा है, लेकिन बदरा है कि बरस ही नहीं रहे। पानी की किल्लत भी बढ़ती जा रही है। कई बांधों में पानी कम होने लगा है। जयपुर, अजमेर और टोंक की लाइफ लाइन कहा जाने वाला बीसलपुर बांध भी तेजी से खाली होने लगा है। पूरे बांध में अब 25 फीसदी से भी कम पानी बचा है, जो 100 दिनों के लिए ही पर्याप्त माना जा रहा है। अगर इस मानसून में बांध में पानी कम आया तो अगले साल अजमेर, जयपुर में पानी की भारी किल्लत हो सकती है। अजमेर में तो 2 की बजाए 3 या 4 दिन के अंतराल में पानी सप्लाई की नौबत आ जाएगी। जयपुर में भी सप्लाई 50 फीसदी तक कम की जा सकती है।

जलसंसाधन विभाग के अधिकारियों की माने तो बांध का गेज 309 मीटर से नीचे जाने के बाद तेजी से गिरता है। अभी बांध का लेवल रोजाना 1.20 सेमी नीचे जा रहा है। पिछले साल सितंबर 2020 में बांध का लेवल 313.45 मीटर था, जो अब कम होकर 309.55 मीटर पर आ गया। बांध में भराव क्षमता का कुल 24.75 फीसदी ही पानी बचा है। अगर बांध में पानी नहीं आता है तो पानी की सप्लाई को कम किया जाएगा।

945 MLD पानी हर रोज ले रहे हैं बांध से
जयपुर शहर के अलावा चाकसू, दूदू, सांभर सहित अन्य जिलों में 590 एमएलडी, अजमेर जिले और उसके आस-पास के इलाकों में 305 एमएलडी और टोंक के उनियारा-देवली के लिए 50 एमएलडी पानी हर रोज बांध से दिया जाता है। इस बार मानसून में देरी के कारण अब तक पानी नहीं आया है। अच्छी बारिश नहीं हुई तो अगले साल पानी की स्थिति विकट हो सकती है।

जयपुर में 76 फीसदी सप्लाई बीसलपुर से
जयपुर शहर में हर रोज 610 MLD पानी की सप्लाई पीएचईडी करता है। इसमें से 76 फीसदी यानी 463 MLD तो केवल बीसलपुर से आता है। शेष 24 फीसदी (145 MLD) पानी जयपुर शहर में खोदे गए अलग-अलग ट्यूबवैल और बोरिंग के जरिए निकाला जाता है। इसके अलावा जयपुर के दूदू, चाकसू, सांभर क्षेत्र में पानी की सप्लाई भी बीसलपुर से होती है। यहां करीब 30 MLD पानी हर रोज आता है। अजमेर में तो स्थिति बहुत विकट है, यहां अभी एक दिन छोड़कर एक दिन पानी आता है। अजमेर शहर के अलावा ब्यावर, पुष्कर, केकड़ी किशनगढ़, नसीराबाद सहित कई जगहों पर पानी सप्लाई से लोग परेशान है। कई ऐसे भी एरिया हैं, जहां तीन दिन में एक बार पानी आ रहा है।

218 ट्यूबवैल खोदने की तैयारी
पब्लिक हेल्थ एण्ड इंजीनीयरिंग डिपार्टमेंट (पीएचईडी) के अतिरिक्त मुख्य अभियंता मनीष बेनीवाल की माने तो जयपुर को बीसलपुर से पानी की कटौती होने पर ट्यूबवैल से इसकी कमी को पूरा किया जाएगा। इसके लिए जयपुर में 218 अलग-अलग पॉइंट पर नए टयूबवैल खोदे जाएंगे, जबकि 146 पहले से खुदे हुए ट्यूबवैल का रिन्यूवल करवाया जाएगा। इन सभी ट्यूबवैल से कुल 106 MLD पानी निकाले जाने की प्लानिंग है।

खबरें और भी हैं...