• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Rajasthan Coronavirus Red Zone Panchayat News Update; Rajasthan 14 Districts 151 Panchayats Including Jaipur Kota In Red zone Out Of One hundred two

प्रवासियों ने बढ़ाई चिंता / राजस्थान के 14 जिलों की 151 में से 102 पंचायतों में कोई रोगी नहीं, फिर भी रेड जोन में रखा गया

। जयपुर की 15 में से 14 और कोटा की सभी 5 पंचायत समितियों में एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं है।  । जयपुर की 15 में से 14 और कोटा की सभी 5 पंचायत समितियों में एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं है। 
X
। जयपुर की 15 में से 14 और कोटा की सभी 5 पंचायत समितियों में एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं है। । जयपुर की 15 में से 14 और कोटा की सभी 5 पंचायत समितियों में एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं है। 

  • रोगियों की संख्या के आधार पर प्रदेश के 12 जिले पूरी तरह रेड कैटेगरी में, 6 ग्रीन में और 15 ऑरेंज कैटेगरी में हैं
  • जयपुर और कोटा में अभी तक एक भी प्रवासी नहीं आया है, इन दोनों की सारी पंचायत समितियों को ग्रीन कैटेगरी में डाला जा सकता है

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 02:17 PM IST

जयपुर.  राजस्थान में कोरोना की एंट्री को 80 दिन हो चुके हैं। रोगियों की संख्या के आधार पर प्रदेश के 12 जिले पूरी तरह रेड कैटेगरी में, 6 ग्रीन में और 15 ऑरेंज में हैं। चौंकाने वाली बात ये है कि 14 जिलों की 151 पंचायत समितियां रेड कैटेगरी में रखी गई हैं, जबकि इनमें से 102 ऐसी हैं, जहां अभी तक एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला है। हालांकि, ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि डर है कि इन जगहों पर लाखों की संख्या में प्रवासी राजस्थानी आने वाले हैं और उनसे संक्रमण फैलने का खतरा है।

केंद्र की गाइडलाइंस के मुताबिक जिला कलेक्टर चाहें तो इन पंचायत समितियों की कैटेगरी राज्य स्तर से सक्षम स्वीकृति के बाद बदली जा सकती है, ताकि कई रियायतें मिल सकें। लिहाजा, जयपुर और कोटा में तो आज तक एक भी प्रवासी नहीं आया है। ऐसे में इन दोनों जिलों की सारी पंचायत समितियों को ग्रीन कैटेगरी में डाला जा सकता है। जयपुर की 15 में से 14 और कोटा की सभी 5 पंचायत समितियों में एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं है। 
प्रवासियों के कारण सौ से अधिक भर्ती लोगों वाले जिले 2 से बढ़कर 6 हो गए
10 मई तक प्रदेश के कोरोना हाॅटस्पाॅट वाले जयपुर, जोधपुर और एकाएक कोहराम वाले उदयपुर में ही 100 से अधिक रोगी भर्ती थे। एक बार टोंक, कोटा, नागौर, भरतपुर और अजमेर में भी भर्ती रोगियों की संख्या 100 पार गई थी। उसके बाद ज्यादातर ठीक हो गए। पिछले 15 दिन में भारी संख्या में प्रवासी आने के कारण फिर 100 पार भर्ती रोगियों वाले जिले दोगुने हो गए। सौ से ज्यादा भर्ती रोगियों वाले जिले 2 से बढ़कर अब 6 तक पहुंच चुके हैं।
नई पंचायत समितियों के रेड जाेन में आने का खतरा अब भी बरकरार है

 कुछ जिलों में अभी प्रवासी आने की स्थिति ज्यादा रही तो कोरोना फ्री पंचायत समितियां रेड जोन में आ सकती हैं। इनमें बांसवाड़ा, अजमेर, जैसलमेर, प्रतापगढ़, चित्तौड़गढ़, अलवर, भरतपुर की ऑरेंज या ग्रीन कैटेगरी की पंचायत समितियां रेड कैटेगरी में आ सकती हैं। इन जिलों में भी अभी करीब एक लाख प्रवासी आने हैं। प्रदेश के 3 जिलों जालौर, सिरोही और गंगानगर में प्रवासी ही कोरोना लाए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना