7 दिन में ही 15 गुणा बढ़ा कोरोना संक्रमण:जयपुर में 1527 मरीज आए; 91 इलाकों में संक्रमण फैला, दर 11.19 % हुई, 7 दिन में एक्टिव मरीज 6000 के पार

जयपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना का डर हो या उसे हराने का जज्बा, वैक्सीनेशन के लिए फिर से लगने लगीं कतारें। - Dainik Bhaskar
कोरोना का डर हो या उसे हराने का जज्बा, वैक्सीनेशन के लिए फिर से लगने लगीं कतारें।

राजधानी में काेराेना की तीसरी लहर पूरी तरह बेकाबू हाेती जा रही है। राेजाना संक्रमित मरीजाें का आंकड़ा बढ़ रहा है। संक्रमण की दर 7 दिन में ही 4 फीसदी से 12 फीसदी के करीब पहुंच गई। शुक्रवार को राजधानी में 91 इलाकों में कुल 1527 नए केस मिले। विशेषज्ञों के अनुसार काेराेना अब पहली और दूसरी लहर के मुकाबले बहुत तेजी से फैल रहा है।

1 जनवरी को राजधानी में 192 मरीज मिले थे और 7 दिन में आंकड़ा 15 गुना बढ़ गया। मार्च 2020 में काेराेना की पहली लहर शुरू हुई थी और सात माह बाद नवंबर में 14 हजार केसाें के साथ पीक आई थी। दूसरी लहर में 2 माह बाद ही मई में मरीजाें का आंकड़ा 73 हजार से ऊपर चला गया था। पहली लहर में एक दिन में सर्वाधिक केस की संख्या 795 थी, वहीं दूसरी लहर में यह आंकड़ा 4099 था।

राजधानी में कोरोना मरीजों की बढ़ती रफ्तार के साथ ही एक्टिव मरीज में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। पिछले सात दिन में एक्टिव मरीजों में 6 गुना बढ़ोतरी हुई है। सात दिन पहले 1 जनवरी को एक्टिव मरीजों का आंकड़ा 613 था, जो 7 जनवरी को बढ़कर करीब 6 हजार पहुंच गया है। यानी सात दिन में करीब 5 हजार 400 एक्टिव मरीजों में बढ़ोतरी हुई है। इतना ही नहीं 7 दिसंबर को राजधानी में मात्र 105 मरीज कोरोना पॉजिटिव थे। इसके बाद एक्टिव मरीजों की संख्या घटकर 23 दिसंबर को 96 रह गई थी। 1 जनवरी के बाद बाद एक्टिव मरीजों में तेजी से बढ़ोतरी हुई है।

एक्टिव के हिसाब से नहीं हो रहे रिकवर
एक्टिव मरीज जिस हिसाब से बढ़ रहे हैं, उस हिसाब से मरीज रिकवर नहीं हो रहे हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक सात दिन में कोरोना पॉजिटिव से निगेटिव हो जाना चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। 31 दिसंबर को एक्टिव मरीजों की संख्या 613 थी। इसके आठ दिन बाद 7 जनवरी को केवल 195 मरीज ही रिकवर हुए हैं।

वैशाली नगर 103, सोढाला 56, ,अजमेर 49, मानसराेवर 45, पत्रकार काॅलाेनी 40, आदर्श नगर 42, जवाहर नगर 39, जेएनएलमार्ग, जगतपुरा 37- 37, बनीपार्क 36, टाेंक राेड़ 33,आमेर 31 केस मिले।

भर्ती मरीजों में से कोई भी गंभीर स्थिति में नहीं है। सभी की एचआर सिटी स्कोर और ऑक्सीजन लेवल कंट्रोल में हैं। -डॉ. अजीत सिंह , अस्पताल अधीक्षक

खबरें और भी हैं...