कोरोना फिर बढ़ रहा:संक्रमित बच्चों में 16% स्कूल जाने वाले; 42 दिन में 55 बच्चे पॉजिटिव, शुक्र है, कोई गंभीर नहीं

जयपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यह फोटो जयपुर जिले के कोटपूतली की है। यहां पर खाद के लिए किसानों की लंबी लाइन लगी रही। कहीं भी ना तो सोशल डिस्टेंसिंग दिखी और ना ही किसी चेहरे पर मास्क था। ऐसी तस्वीर जिले के सभी खाद वितरण केंद्रों पर देखी जा सकती है। - Dainik Bhaskar
यह फोटो जयपुर जिले के कोटपूतली की है। यहां पर खाद के लिए किसानों की लंबी लाइन लगी रही। कहीं भी ना तो सोशल डिस्टेंसिंग दिखी और ना ही किसी चेहरे पर मास्क था। ऐसी तस्वीर जिले के सभी खाद वितरण केंद्रों पर देखी जा सकती है।

बड़ों के साथ-साथ अब कोरोना से संक्रमित होने में बच्चे भी पीछे नहीं हैं। चिकित्सा विभाग की ओर से 1 नवम्बर से 12 दिसंबर तक जारी कोरोना पॉजिटिव के आंकड़ों पर गौर किया जाए तो संक्रमितों में स्कूल जाने वाले 10 से 19 साल की उम्र के 16 प्रतिशत बच्चे पॉजिटिव पाए गए हैं। वहीं सबसे ज्यादा कोरोना से 30 से 39 उम्र के युवा संक्रमित हो रहे हैं। इनकी संख्या 18 प्रतिशत है।

इन 42 दिनों में प्रदेश में 647 कोरोना पॉजिटिव आए हैं। इसमें 381 पुरुष तो 266 महिला शामिल हैं। इस दौरान प्रदेश में 0 से 19 साल के 124 बच्चे कोरोना पॉजिटिव आए हैं। इस पीरियड में 70 से 79 उम्र के 5.41 प्रतिशत , 60 से 69 के 12.52 प्रतिशत, 50 से 59 उम्र के 11.75 प्रतिशत, 40 से 39 साल के 17.16 प्रतिशत लोग संक्रमित हुए हैं। अकेले राजधानी में 42 दिन में 55 स्कूली बच्चे कोरोना पॉजिटिव आए हैं। हालांकि सभी में हल्के लक्षण हैं। इसमें अधिकांश नामी स्कूलों के शामिल हंै। दूसरी ओर, सोमवार को 7 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं।

14 में 5 बच्चे ओमिक्रॉन संक्रमित
ओमिक्रॉन वैरिएंट के 14 संक्रमितों में से 5 बच्चे हैं। इनकी उम्र 18 साल से कम है। अफ्रीका से लौटी एक बच्ची को फाइजर की वैक्सीन लगी है। ओमिक्रॉन के 8 मरीजों को वैक्सीन की दोनों डोज लगी है। डॉक्टरों का मानना है इसी वजह से मरीजों में सामान्य लक्षण मिले हैं।

महाराष्ट्र के बाद जयपुर में ओमिक्रॉन के सबसे अधिक 14 मरीज हुए, 20 की रिपोर्ट का इंतजार
राजधानी में एक बार फिर ऑमिक्रॉन विस्फोट हुआ है। रविवार रात और सोमवार को 8 मरीज आए हैं। इसमें 5 राजधानी, 3 अजीतगढ़ के रहने वाले हैं। सभी की रिपोर्ट विभाग ने 7 दिन बाद जारी की है, जबकि साउथ अफ्रीका से लौटे परिवार की रिपोर्ट 4 दिन में आ गई थी। राजधानी में ओमिक्रॉन के 14 मरीज हो गए हैं। अब जयपुर में महाराष्ट्र के बाद सबसे अधिक ओमिक्रॉन के मरीज हैं।

महाराष्ट्र में 18 ओमिक्रॉन मरीज हैं। गुजरात और कर्नाटक में 3-3, दिल्ली में 2, चडीगढ़, केरल और आंध्र प्रदेश में 1-1 ओमिक्रॉन संक्रमित हैं। देश में 42 मरीज नए वैरिएंट के हैं। राहत की बात यह है कि जहां पर भी ऑमिक्रॉन संक्रमित केस मिले हैं, उसमें अधिकांश केस एसिंप्टोमैटिक हैं।

कोरोना पॉजिटिव हर व्यक्ति की अब कराई जाएगी जीनोम सीक्वेंसिंग
सीएमएचओ प्रथम डॉ. नरोत्तम शर्मा ने बताया ओमिक्रॉन मरीज मिलने के बाद हर पॉजिटिव मरीज की जीनोम सिक्वेंसिंग कराई जा रही है। 20 मरीजों के सैंपल भेजे गए हैं। रिपोर्ट आनी बाकी है।

2 बार निगेटिव के बाद फिर रिपोर्ट पॉजिटिव
ओमिक्रॉन जांच रिपोर्ट को भी चकमा दे रहा है। ओमिक्रॉन से संक्रमित मरीज एक बार निगेटिव होने के बाद भी दूसरी रिपोर्ट में पॉजिटिव मिल रहे हैं। इस वजह इसे डॉक्टर ओमिक्रॉन संक्रमित व्यक्तियों को तीन बार लगातार निगेटिव आने पर ही पूरी तरह सुरक्षित मान रहे हैं। हालांकि दो बार निगेटिव आने पर अस्पताल से घर शिफ्ट कर दिया जाता है। साउथ अफ्रीका और इसके संपर्क में आए तीन लोगों की अस्पताल में भर्ती होने के तीसरे दिन पहली रिपोर्ट निगेटिव आई थी।

खबरें और भी हैं...