• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • 20 Flights Are Flying Daily From Jaipur, Indigo First To Operate And Go First I Last To Cancel, 160 Out Of 335 Flights Canceled

एयरपाेर्ट पर एक महीने में डबल हुए यात्री और फ्लाइट्स:जयपुर से 20 फ्लाइट्स रोजाना उड़ान भर रहीं, ऑपरेट करने में इंडिगो फर्स्ट और रद्द करने में गो फर्स्ट आई लास्ट

जयपुर4 महीने पहले
जयपुर एयरपोर्ट (फाइल फोटो)

कोरोना की दूसरी लहर थमने के बाद जयपुर एयरपोर्ट से फ्लाइट संचालन में सुधार देखने को मिल रहा है। जून की तुलना में इस महीने जयपुर एयरपोर्ट पर फ्लाइट्स बढ़ी हैं और हवाई यात्रियों की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है। पिछले 1 महीने में ही जयपुर एयरपोर्ट से यात्रियों की संख्या डबल हो गई हैं। वहीं, फ्लाइट्स रद्द होने की बात करें तो सबसे ज्यादा गो फर्स्ट की फ्लाइट्स की जा रही हैं। जून के महीने की बात करें तो 335 कुल फ्लाइट्स रद्द हुई थीं, जिसमें अकेले 160 गो फर्स्ट की फ्लाइट्स शामिल थीं।

6 से 20 डेली फ्लाइट्स तो 5300 पहुंचा यात्रीभार
जून माह के पहले सप्ताह में हवाई यात्रा के हाल बुरे थे। पहले सप्ताह तक रोज मात्र 6 से 7 फ्लाइट चल रही थीं और यात्रियों की संख्या भी करीब 1400 चल रही थी। पिछले 1 सप्ताह के आंकड़े देखें, तो औसत फ्लाइट संचालन प्रतिदिन 20 रहा है और हवाई यात्रियों की संख्या औसतन 5300 रही है। कोरोना की दूसरी लहर थमने के बाद एविएशन सेक्टर की स्थिति में सुधार दिख रहा है। जयपुर एयरपोर्ट से मिले आंकड़ों के मुताबिक जून माह में कुल 418 फ्लाइट का संचालन हुआ और इस दौरान 68213 यात्रियों ने यात्रा की थी।

इस महीने के पिछले 17 दिनों में फ्लाइट्स की संख्या करीब 306 रही है। वहीं यात्रियों की संख्या पिछले माह से ज्यादा हो चुकी है। इस महीने 17 जुलाई तक करीब 76 हजार यात्री जयपुर एयरपोर्ट से यात्रा कर चुके हैं। एविएशन से जुड़े एक्सपर्ट्स की मानें तो 31 जुलाई तक यात्रीभार डेढ़ लाख से ज्यादा रहेगा।

जून में 6500 यात्रियों ने रद्द किए टिकट
फ्लाइट रद्द होने से हवाई यात्रियों को जून माह में भारी परेशानी झेलनी पड़ी थी। जून माह के दौरान करीब 6500 यात्रियों के टिकट रद्द हुए। जबकि जुलाई में अब तक करीब 3200 यात्रियों के टिकट रद्द हुए हैं। कम यात्रीभार होने की स्थिति में एयरलाइंस फ्लाइट रद्द कर देती हैं। इसके लिए संचालन और तकनीकी कारणों को जिम्मेदार ठहराया जाता है। हालांकि अब फ्लाइट रद्द होने की संख्या में कमी आई है और संचालन बढ़ रहा है।

एविएशन एक्सपर्ट और अथॉरिटी के रिटायर्ड एजीएम त्रिलोचन सिंह का कहना है कि स्थितियां सामान्य रहती हैं तो अगस्त में एविएशन सेक्टर और गति पकड़ेगा। 1 अगस्त से 8 नई फ्लाइट बढ़ने की उम्मीद है। उम्मीद की जा रही है कि अक्टूबर तक रोज औसतन 43 फ्लाइट और 10 हजार यात्रियों का आवागमन होगा।

7 दिन में 6 नई फ्लाइट्स जुड़ीं
नई फ्लाइट बढ़ाने में इन दिनों स्पाइसजेट एयरलाइन सबसे आगे है। स्पाइसजेट ने पिछले एक सप्ताह में सूरत, अहमदाबाद, उदयपुर और दिल्ली के लिए नई फ्लाइट शुरू की है। वहीं एयर एशिया ने मुंबई, इंडिगो ने बेंगलुरू की फ्लाइट शुरू की। अभी इंडिगो की सर्वाधिक 8 से 9 फ्लाइट रोजाना संचालित हो रही हैं।

एयरपोर्ट के हालात पर एक नजर
जून में रोज औसतन 14 फ्लाइट संचालित हुई, 2273 यात्रियों का आवागमन हुआ। यानी एक माह में कुल 418 फ्लाइट से 68213 यात्रियों का आवागमन हुआ। वहीं जून में रोजाना औसतन 11 फ्लाइट रद्द हुई, पूरे महीने में कुल 335 फ्लाइट रद्द हुई। इनमें सबसे अधिक 160 फ्लाइट अकेले गो फर्स्ट एयरलाइन की रद्द हुईं। इसके अलावा स्पाइसजेट, एयर इंडिया, एयर एशिया और इंडिगो की फ्लाइट भी रद्द हुईं।

1 से 17 जुलाई तक कुल 306 फ्लाइट संचालित हुईं। इस दौरान 155 फ्लाइट रद्द हुईं। यानी रोजाना औसतन 18 फ्लाइट चली और 9 रद्द हुईं। गो फर्स्ट की रोज औसतन 4 फ्लाइट रद्द हुईं। वहीं स्पाइसजेट, एयर एशिया, इंडिगो व एयर इंडिया की भी रोज औसतन 1-1 फ्लाइट रद्द रहीं।

शिवांग चतुर्वेदी की रिपोर्ट

खबरें और भी हैं...