• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • 23.75 Lakh Poor In The State Deprived Of Wheat At Rs 2 A Kg, Even After Two Years, The Names Of The Members Of The National Food Security Families.

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा:जन आधार में नहीं जुड़ पाने से 2 रुपए किलो गेहूं से वंचित राजस्थान के 23.75 लाख गरीब

जयपुर5 महीने पहलेलेखक: शिव प्रकाश शर्मा
  • कॉपी लिंक
प्रदेश में 23.75 लाख गरीब लाेग 2 रुपए किलो गेहूं से वंचित हाे गए हैं। - Dainik Bhaskar
प्रदेश में 23.75 लाख गरीब लाेग 2 रुपए किलो गेहूं से वंचित हाे गए हैं।

प्रदेश में 23.75 लाख गरीब लाेग 2 रुपए किलो गेहूं से वंचित हाे गए हैं। कारण-दाे साल बाद भी राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा में जुड़े परिवारों के सदस्यों का नाम जन आधार में नहीं जाेड़े गए। सरकार की बहुउद्देशीय जन आधार योजना काे लागू करने के बाद से प्रदेश में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम में चयनित राशन कार्डधारी परिवारों के सदस्यों काे जन आधार से जाेड़ा जा रहा है।

सरकार के निर्देशानुसार राजस्थान में जन आधार कार्ड काे ही राशन कार्ड के स्थान पर मान्यता दी गई है, यानी जन आधार से ही राशन मिलेगा। जन आधार में जुड़े सदस्यों के आधार पर सार्वजनिक वितरण प्रणाली के लाभ 1 जनवरी 2022 से देना तय है। राशन का गेहूं वितरण माह की पहली तारीख से शुरू हाे जाता है। इस माह में कई लाेगाें काे गेहूं नहीं मिला।

सांख्यिकी विभाग के आंकड़ों के अनुसार, प्रदेश में खाद्य सुरक्षा योजना में चयनित गरीब परिवारों में से सबसे अधिक हाेने वाले वंचित अलवर में 1.64 लाख और जयपुर जिले में 1.62 लाख सदस्य है। जयपुर शहर में 74 हजार और ग्रामीण में 88 हजार सदस्य ऐसे हैं, जिनका राशन कार्ड में तो नाम है, लेकिन जन आधार में नामांकन नहीं है। इधर, वंचित लाेगाें की संख्या काे देखते हुए खाद्य विभाग ने प्रदेश के सभी डीएसओ व बीएसओ काे निर्देशित किया है कि वे उनके क्षेत्राें में जिन सदस्यों के नाम जन आधार में नामांकित नहीं हुए, उनके नाम 10 जनवरी तक जोड़े दिए जाएं।

ई-मित्र पर निशुल्क हो सकता है नामांकन
उप निदेशक एवं अतिरिक्त जिला जन आधार योजना अधिकारी जगदीश प्रसाद मीणा ने बताया कि नामांकन से वंचित रहे सदस्यों का ई-मित्र पर नि:शुल्क नामांकन करवाया जा सकता है।

जन आधार में नाम जाेड़ने की तारीख 10 जनवरी है, लेकिन किसी का गेहूं नहीं राेका जाएगा। जिन लाेगाें को गेहूं नहीं मिला, उन्हें दिलवाया जाएगा। - प्रताप सिंह खाचरियावास, खाद्य व आपूर्ति मंत्री