रीट में नकल-पेपर लीक रोकना सबसे बड़ी चुनौती:5 गिरोह के 30 गुर्गे सक्रिय, दावा- परीक्षा से 1 घंटे पहले पेपर लीक करेंगे

जयपुर2 महीने पहलेलेखक: ओमप्रकाश शर्मा
  • कॉपी लिंक
प्रदेश की हर बड़ी परीक्षा में नकल-पेपर लीक करने में माहिर पांच गिरोहों और उनके 30 गुर्गों ने भास्कर पड़ताल के दौरान नकल और परीक्षा से ठीक पहले पेपर लीक करने का दावा किया है। - Dainik Bhaskar
प्रदेश की हर बड़ी परीक्षा में नकल-पेपर लीक करने में माहिर पांच गिरोहों और उनके 30 गुर्गों ने भास्कर पड़ताल के दौरान नकल और परीक्षा से ठीक पहले पेपर लीक करने का दावा किया है।

रीट में नकल-पेपर लीक रोकना पुलिस के सामने सबसे बड़ी चुनौती है। प्रदेश में करीब चार हजार सेंटरों पर 25.31 लाख अभ्यर्थी इसमें हिस्सा लेंगे। वहीं, प्रदेश की हर बड़ी परीक्षा में नकल-पेपर लीक करने में माहिर पांच गिरोहों और उनके 30 गुर्गों ने भास्कर पड़ताल के दौरान नकल और परीक्षा से ठीक पहले पेपर लीक करने का दावा किया है। बीते 10 साल में 300 में से 38 बड़ी परीक्षाओं में इन लोगों ने सेंधमारी की है। इन्होंने परीक्षाओं में सॉल्वर (डमी कैंडिडेट) बैठाने के साथ-साथ हाईटेक तरीके से नकल भी करवाई है।

इन 5 पर नजर जरूरी...क्योंकि

जगदीश विश्नोई; जालोर का है। पर्चा लीक करने में माहिर। बड़े सरकारी अफसर भी गिरोह में हैं। उन्हें सॉल्वर बनाता है। 5 केस में गिरफ्तार हो चुका

भूपेंद्र विश्नोई; कॉलेज लेक्चरर था। फिर नकल गिरोह में सक्रिय हो गया। लाइब्रेरियन और आरएएस (2014) का पेपर प्रिंटिग प्रेस से लीक किया।

रामधारी उर्फ बाबा; वीक्षकों को साथ जोड़ता है। वॉट्सएप पर पेपर मंगाता है। फिर पेपर सॉल्व करा परीक्षा से 1 घंटे पहले अभ्यर्थियों को दिलवाता है।

विकास कुमार; 3 साल पूर्व कॉन्स्टेबल भर्ती में गड़बड़ी में शामिल। एक्सपर्ट्स के जरिए अभ्यर्थी का कंप्यूटर रिमोट पर लेकर पेपर सॉल्व करवाया करता है।

नरेश सिनसिनवार; भरतपुर में सक्रिय है। बायोमैट्रिक को धोखा देने के लिए थम्बप्रिंट का क्लोन बनाकर अभ्यर्थी की जगह एक्सपर्ट्स से पेपर दिलाता।

भास्कर स्टिंग; दलाल बोला- 15 लाख रु. दो, रीट का पेपर मिल जाएगा, 7.5 लाख परीक्षा से पहले और 7.5 लाख बाद में देने होंगे

मयूर पारीक, श्रीगंगानगर| भास्कर ने चार दिन तक रीट की तैयारी कर रहे छात्रों और काेचिंग संस्थाओं से बात कर दलाल से मिलने की काेशिश की, लेकिन उसने फाेन पर बात करने से साफ इनकार कर दिया। फिर भास्कर संवाददाता ने एक स्टूडेंट बनकर रीट अभ्यर्थी के साथ मिलकर दलाल से मुलाकात की। भास्कर से बातचीत में उसने दावा किया कि रीट पेपर के 15 लाख रुपए तक लगेंगे। इसमें आधे रुपए पेपर के प्रश्न-पत्र मिलते ही देने हाेंगे और आधे परीक्षा के बाद देने हाेंगे। दलाल से बातचीत पढ़िए...

भास्कर- पेपर की क्या गारंटी?
दलाल बोला- न लेना हो तो जाओ

संवाददाता; मुझे 26 की रीट परीक्षा का पेपर चाहिए?
दलाल; पूरा मिल जाएगा, किस लेवल का चाहिए?

संवाददाता; लेवल फर्स्ट का, खर्चा कितना होगा?
दलाल; लेवल फर्स्ट का ही मिल जाएगा, हमें पेपर बेचने वालाें काे 15 लाख रुपए देने हैं।

संवाददाता - रुपए एक साथ लेंगे या फिर किस्तों में?
दलाल- आधे रुपए प्रश्न पत्र मिलने के बाद और आधे पेपर पूरा हाेने के बाद लेंगे।

संवाददाता - कितने लाेगाें काे पेपर दिलवा चुके हैं?
दलाल - यह आपकाे नहीं बता सकते हैंै। हालांकि पेपर काे लेकर कईयाें से बातचीत चल रही है।

संवाददाता- आपका नाम क्या है कहां के रहने वाले हो और आप पर भराेसा कैसे किया जाए?
दलाल- मैं अपना नाम और कहां का रहने वाला हूं नहीं बताऊंगा। आप आधे रुपए दाे और पेपर ले जाओ। पेपर हाेने के बाद हम आपसे संपर्क कर लेंगे।

संवाददाता- पेपर कंफर्म आएगा इसकी क्या गारंटी है?
दलाल - हमारे तार जयपुर और जाेधपुर तक फैले हुए हैं। पेपर आएगा यह कंफर्म है। आपको लेना है तो लो, नहीं तो जा सकते हो।

डूंगरपुर में पकड़े शिक्षक का खुलासा; 12 लाख में पास की गारंटी, राशि तय हाेने के बाद 3 लाख एडवांस, फिर परीक्षा में बिठाते थे डमी कैंडिडेट

डूंगरपुर/सीमलवाड़ा, डूंगरपुर पुलिस और एसओजी ने गुरुवार को रीट में डमी अभ्यर्थी बैठाने की तैयारी कर रहे सरकारी शिक्षक भंवरलाल को गिरफ्तार किया गया था। शुक्रवार को उससे पूछताछ में कई खुलासे हुए। उसने बताया कि 12 लाख रुपए में पास कराने की गारंटी देते थे। राशि तय हाेने के बाद 3 लाख रुपए एडवांस लिए जाते थे। फिर परीक्षा में डमी कैंडिडेट बैठाते थे। डमी कैंडिडेट बिठाने की एवज में किसी ने एंडवास राशि दी ताे किसी ने ब्लैंक चेक दिया। कृषि पर्यवेक्षक भर्ती परीक्षा में डमी अभ्यर्थी बिठा कर 5 लाख के चेक लिए। पूछताछ के आधार पर 4 लोगों को और गिरफ्तार किया गया।

7 जिलों में 17 गिरफ्तार; कहीं पेपर लीक, कहीं डमी अभ्यर्थी बैठाने की तैयारी थी

रीट में नकल गिरोह और पेपर लीक कराने वाले सक्रिय हो गए हैं। प्रदेश के 7 जिलों में 17 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें जयपुर में 5, दौसा में 4, सीकर में 3, कोटा में 2, सवाई माधोपुर, जोधपुर व अलवर में एक-एक व्यक्ति पकड़ा गया है। जयपुर में 2 लड़कियों और एक लेक्चरर समेत 5 को दबोचा गया है। वहीं, दौसा में पुलिस ने डमी कैंडिडेट बिठाने वाली गैंग का पर्दाफाश करते हुए अजमेर सेल्स टैक्स विभाग के एलडीसी सहित 4 गिरफ्तार किया है। इनसे दो कारें जब्त कर 5.60 लाख की नकदी पकड़ी गई है। सवाई माधोपुर में 15 लाख रुपए में पेपर बेचने का झांसा देने वाला आरोपी देशराज गिरफ्तार किया गया है। उसने 25-26 अभ्यर्थियों से करीब 4 करोड़ रु. के लेनदेन की बात कर रखी थी। वहीं, अलवर के बहरोड़ में परीक्षा से 3 घंटे पहले पेपर लाने की बात कहकर 11 लाख वसूलने वाला विजय यादव पुलिस के हत्थे चढ़ा है।

खबरें और भी हैं...