पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

प्लाज्मा थैरेपी के नाम पर हजारों की वसूली:40 हजार रुपए का इंजेक्शन फ्री... डोनेट प्लाज्मा के बदले मरीजों से 16500 रुपए वसूले जा रहे

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो।
  • एसएमएस प्रशासन का दावा सिर्फ थेरेपी प्रोसेस का खर्च ही मरीजों से लिया जा रहा है
  • एसएमएस से प्लाज्मा लेने वाले कोरोना के गंभीर मरीजों को आखिर क्यों देना पड़ रहा है चार्ज

(संदीप शर्मा) कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज पर सरकार जहां करोड़ों रुपए खर्च कर रही है, यहां तक की 50 हजार रुपए की कीमत वाला इंजेक्शन तक फ्री कर दिया है, लेकिन प्लाजा थैरेपी में खर्च के नाम पर मरीजों से 16 हजार 500 रुपए वसूलने शुरू कर दिए हैं। ऐसा इसलिए कि एसएमएस प्रशासन ने तय किया है कि प्लाज्मा थेरेपी प्रोसेस में जो भी खर्च आएगा, उसकी वसूली मरीजों से ही की जाएगी। लेकिन, सवाल यह है कि जब सरकार कोविड के मरीजों की जान बचाने के लिए 40 हजार रुपए का इंजेक्शन फ्री कर सकती है तो फिर 16500 रुपए की वसूली को क्यों रोक नहीं सकती?
गंभीर मरीजों की जान बचाने के लिए प्लाज्मा थैरेपी काफी कारगर साबित हुई। एसएमएस प्रशासन ने प्लाज्मा थैरेपी की सफलता पर झंडे गाड़े और बताया कि इससे किस तरह जान बचाई जा सकती है। आमजन भी इससे प्रेरित हुआ और थैरेपी के लिए तैयार होने लगा। कोविड ग्रस्त होकर ठीक हुए सैकड़ों लोगों ने प्लाज्मा डोनेट किया और सरकार ने प्लाज्मा बैंक भी खोल दिया। लेकिन अब सरकार ने इस पर पैसे लेना शुरू कर दिया है।

तो क्या अस्पताल मना कर देगा?
एसएमएस प्रशासन का मानना है कि आने वाले समय में गंभीर कोविड पेशेंट बढ़ेंगे और प्लाज्मा देना होगा। लेकिन इसे तैयार करने में काफी खर्च होता है तो कीमत तय करनी ही होगी।

लेकिन जिस तरह से केस बढ़ रहे हैं, उसके हिसाब से आने वाले दिनों में गंभीर रोगियों को और भी प्लाज्मा की जरूरत पड़ेगी। ऐसे में सभी लोग भुगतान कर सकेंगे, इसमें संशय है। क्योंकि सैंकड़ों लोग ऐसे हैं जो ब्लड के लिए 1100 रुपए का चार्ज नहीं दे पाते। ऐसे में सरकार को पुनर्विचार करने की जरूरत है।

लेकिन सवाल यह है कि कोविड के कई गंभीर मरीज ऐसे होते हैं जो कि एक हजार रुपए देने की भी स्थिति में नहीं होते। ऐसे में क्या चिकित्सा विभाग उन्हें प्लाज्मा देगा या मना कर देगा? जबकि सरकार गंभीर मरीजों के लिए टॉसिलिजुमेब इंजेक्शन तक को फ्री कर चुकी है जिसकी एक की कीमत 40 हजार रुपए होती है और मरीजों को एक से दो इंजेक्शन तक लगाए जाते हैं।

^प्लाज्मा के लिए रुपए लेने का निर्णय उच्च स्तर पर लिया गया है। थैरेपी के लिए जो प्रोसेस चार्ज हैं, वही लिए जा रहे हैं। लेकिन किसी भी मरीज की जान बचाने के लिए जो भी कोशिश होगी, वह की जाएगी।
-डॉ. राजेश शर्मा, अधीक्षक, एसएमएस

बीएसएफ जवानों ने कोरोना को हराया, अब प्लाज्मा डोनेट कर मरीजों को भी बचाएंगे

बॉर्डर सिक्यॉरिटी फोर्स (बीएसएफ) के जवान भारतीय सीमाओं की सुरक्षा के साथ ही कोरोना को हराने के लिए भी दमखम दिखा रहे हैं। संक्रमित होने वाले बीएसएफ के अब तक 20 सैनिकों ने जूझ रहे गंभीर मरीजों के लिए एसएमएस अस्पताल में अपना प्लाज्मा डोनेट किया है। ये जवान संक्रमित हुए फिर कोरोना को हराया और अब प्लाज्मा डोनेट कर वापस सीमाओं पर पहुंच गए हैं।

जवानों का यह जज्बा देखकर कोरोना को हराने वाले डॉक्टर, पुलिस, नर्सेज और अन्य लोग भी प्लाज्मा डोनेट करने के लिए आगे आ रहे हैं। जयपुर की 126वीं वाहिनी सीमा सुरक्षा बल के द्वितीय कमान अधिकारी संजीव कुमार, उप कमांडेंट हरबख्श सिंह व प्रताप सिंह और यूनिट चिकित्सा अधिकारी डॉ.पंकज शर्मा का कहना है कि प्लाज्मा डोनेट करने वाले जवान अपनी ड्यूटी के दौरान संक्रमित हुए थे।

अपने अदम्य साहस एवं दृढ़ इच्छा शक्ति के बल पर पहले तो कोरोना को हराया और अब ये जवान दूसरे कोरोना संक्रमितों की जान बचाने के लिए अपना प्लाज्मा दे रहे है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अध्यात्म और धर्म-कर्म के प्रति रुचि आपके व्यवहार को और अधिक पॉजिटिव बनाएगी। आपको मीडिया या मार्केटिंग संबंधी कई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, इसलिए किसी भी फोन कॉल को आज नजरअंदाज ना करें। ...

और पढ़ें