फाइव स्टार चोर:क्लार्क्स आमेर में दो करोड़ की ज्वैलरी चुराने से 5 दिन पहले उदयपुर के ट्राइडेंट में की थी चोरी

जयपुर6 महीने पहलेलेखक: इशांत वशिष्ठ
  • कॉपी लिंक
जयेश। - Dainik Bhaskar
जयेश।

जयपुर के क्लार्क्स आमेर होटल में दो करोड़ की डायमंड ज्वैलरी और 95 हजार रुपए नकद चुराने वाला चोर गुजरात का जयेश रावजी सेजपाल है। अभी मुंबई में रहने वाला जयेश (47) अक्सर पांच सितारा होटलों में होने वाली वीआईपी शादियों को ही निशाना बनाता था। होटलों में कमरे बुक करने के बहाने वह वीआईपी शादियों की जानकारी लेता था।

वह एक ही पैटर्न से देशभर में 13 चोरियां कर चुका है। तीन बार पकड़ा भी गया, लेकिन जमानत पर छूटकर फिर चोरी में लग जाता है। पिछली बार वह चंडीगढ़ में गिरफ्तार हुआ था। तब से जमानत पर है। खास बात है कि जयपुर में 25 नवंबर को चोरी करने से ठीक पांच दिन पहले उसने 21 नवंबर को उदयपुर के ट्राइडेंट होटल में भी 15 लाख रु. की चोरी की थी। दिल्ली निवासी श्रेष्ठ कालरा ने अंबामाता थाने में केस दर्ज कराया है। वह दिल्ली से दोस्त की शादी में उदयपुर आए थे और जयेश का शिकार हो गए।

एक ही पैटर्न- शादी वालों के साथ चेकइन करता... उनसे घुलता-मिलता, रैकी करता, मेहमानों के कार्यक्रम में जाते ही उनके नाम से होटल स्टाफ से रूम खुलवाता

चोर जयेश सबसे पहले होटल में फोन कर 25-30 कमरों की बुकिंग की बात करता। इसी बहाने वहां अन्य शादियों की बुकिंग की जानकारी लेता। इनमें ज्यादा कमरे बुक करने वाली शादियों को टार्गेट करता। शातिर इतना कि शादी वाली पार्टी के साथ ही चेकइन करने के बाद उनसे घुलता-मिलता। रैकी करता कि कौन किस कमरे में रुकेगा और उसके पास कितना सामान है।

एक व्यक्ति को चिह्नित कर पूरी जानकारी लेता। जैसे की कमरे में ठहरा व्यक्ति कार्यक्रम के लिए निकलता तो उसी के नाम से होटल वालों को फोन कर चाबी नहीं होने की बात कहता, कमरा खुलवाता और सारा सामान पार कर देता। पूरी चोरी के दौरान जयेश किसी भी गैजेट का इस्तेमाल नहीं करता। आने-जाने के लिए पब्लिक ट्रांसपोर्ट का प्रयोग करता है। अति. पुलिस कमिश्नर प्रथम अजय पाल लांबा बोले- जयेश के बारे में काफी जानकारी मिली है। उसे जल्द गिरफ्तार करेंगे।

राजस्थान में तीसरी चोरी; चेन्नई, हैदराबाद, मुंबई, चंडीगढ़ जैसी हर हाईटेक सिटी में सेंध
गुजरात के जूनागढ़ का रहने वाला जयेश के खिलाफ हैदराबाद, चेन्नई, मुंबई, चंडीगढ़, कानपुर, आगरा सहित अन्य जगहों पर ऐसे ही वारदातों को अंजाम देने के मुकदमा दर्ज है। जानकारी के अनुसार साल 2018 में हैदराबाद में गिरफ्तार किया गया। इससे पहले साल 2006 में आगरा थाना पुलिस ने पकड़ा था। जयेश ने राजस्थान के होटलों को 8 साल बाद फिर निशाना बनाना शुरू किया है। इसमें एक वारदात 2013 में जोधपुर के एक होटल में करना सामने आया है। हालांकि अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

खबरें और भी हैं...