• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • 5 Star Thief Jayesh In The Clutches; Net Was Run For 14 Minutes In Navsari And Was Caught, Jewelery Was Also Confiscated ... Now The Police Of 13 States Are 'behind'

शिकंजे में 5 स्टार चोर जयेश:नवसारी में 14 मिनट नेट चलाया और पकड़ा गया; अब 13 राज्यों की पुलिस ‘पीछे’ पड़ी

जयपुर2 महीने पहलेलेखक: इशांत वशिष्ठ
  • कॉपी लिंक
वीआईपी मेहमान आते हैं, उनसे ज्यादा पूछताछ नहीं होती, इसलिए बड़ी शादियों पर निगाह रखता था। फोटो - जयेश रावजी सेजपाल। - Dainik Bhaskar
वीआईपी मेहमान आते हैं, उनसे ज्यादा पूछताछ नहीं होती, इसलिए बड़ी शादियों पर निगाह रखता था। फोटो - जयेश रावजी सेजपाल।

होटल क्लार्क्स आमेर में 2 करोड़ के गहने चुराने वाले ‘फाइव स्टार चोर’ जयेश रावजी सेजपाल आखिरकार गिरफ्तार कर लिया गया। वारदात के 6 दिन बाद जवाहर सर्किल पुलिस ने सूरत नवसारी के एक होटल से पकड़ा। जयेश से 2 करोड़ के जेवरात बरामद कर लिए गए हैं। पूछताछ में जयेश ने बताया कि मेहंदीपुर बालाजी के दर्शन करने गया था फिर वहां जयपुर में 45 कमरों की बुकिंग देखी तो लालच आ गया।

चोरी के जयपुर वापी पहुंच गया। वहां से उदयपुर के ट्राइडेंट होटल से चुराई कुछ ज्वेलरी सुनार को दे दी। जयपुर से चुराया माल सुनार को दिखाया। कीमत 2 करोड़ होने के कारण सुनार ने एक दिन का समय मांगा था। इससे पहले ही ईस्ट डीएसटी व थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

एडिशनल कमिश्नर अजयपाल लांबा ने बताया जयेश पांच सितारा होटलों को निशाना बनाता था। जयेश से 2 करोड़ की ज्वेलरी, 35 हजार नकद, मोबाइल बरामद हुआ है। तकनीकी शाखा के विजय राठी और डीएसटी थाने के एसआई कृष्ण कुमार यादव को थानाधिकारी के साथ लगाया गया।

मुंबई पुलिस के 20 साल पुराने रिकॉर्ड से वापी का पता मिला
मुंबई क्राइम ब्रांच ने जयपुर पुलिस को 20 साल का एक रिकॉर्ड शेयर किया। इसमें उसका वापी का पता मिला। तस्दीक के लिए गई जयपुर की टीम ने वहां फ्लैट मालिक के बारे में पूछा तो बताया गया कि फ्लैट जयेश भाई का है। जब पुलिस वहां से लौट रही थी तब एक बच्ची को जयपुर के सीसीटीवी फुटेज दिखाए तो उसने ‘जय अंकल’ कह कर आरोपी को पहचान लिया।

नई सिम व मोबाइल खरीदा, नेट चलाया तो लोकेशन नवसारी
एसएचओ राधारमण गुप्ता ने बताया जयेश के पास मोबाइल और नई सिम मिली है। सिम अपने आधार से सूरत में 27 नवंबर को खरीदी थी। इसकी लोकेशन नवसारी में मिली। वहां उसने 30 नवंबर को सुबह 11 बजे 14 मिनट तक नेट चलाया था। इस दौरान वह चोरी की अपनी वारदातों की खबरें पढ़ता रहा। इस दौरान पुलिस वापी से नवसारी पहुंची।

जयपुर से 26 को निकला, केवल एक बार फोन ऑन किया
जयेश जयपुर से 26 नवंबर को निकला था। सिंधी कैंप से निजी ट्रैवल कंपनी की बस से गया। वापी 27 नवंबर को सुबह 7 बजे पहुंचा। इस दौरान पाली में फोन ऑन किया, उसके बाद फोन बंद ही रखा। फिर अगली लोकेशन 30 नवंबर को मिली, जिसके बाद जयेश को पकड़ लिया गया।अपने नंबर से जयेश ने एक बार भी फोन पर नेट का उपयोग नहीं किया था।