• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • 5328 Seats Will Be Increased By Installing 74 Coaches In 54 Trains For Diwali, So That The Path Of Every Passenger Is Smooth

त्योहार की तैयारी:दिवाली के लिए 54 ट्रेनों में 74 कोच लगाकर बढ़ाई जाएंगी 5328 सीट, ताकि हर यात्री की राह सुगम हो

जयपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
15 अक्टूबर से लंबी दूरी के 6 शहरों के लिए ट्रेनों का संचालन शुरू होगा। - Dainik Bhaskar
15 अक्टूबर से लंबी दूरी के 6 शहरों के लिए ट्रेनों का संचालन शुरू होगा।

नवंबर की शुरुआत में दिवाली है। यात्रियों को परेशानी ना हो इसके लिए रेलवे तैयारी में जुट गया है। ट्रेनों में बड़ी संख्या में अस्थाई कोच बढ़ाए जा रहे हैं। 15 अक्टूबर से लंबी दूरी के 6 शहरों के लिए ट्रेनों का संचालन शुरू होगा। जयपुर से अजमेर, कोटा, जोधपुर, सीकर आदि छोटी दूरी की भी ट्रेनें संचालित की जाएंगी। दूसरी ओर, रोडवेज प्रशासन भी जिन रूट पर यात्रियों का दबाव होगा, उन पर बसों के अतिरिक्त फेरे संचालित करेगा। ऐसे में अब देखना ये होगा कि अगर कोरोना की स्थिती सामान्य रहती है तो ये इंतजाम यात्रियों के लिए पर्याप्त होंगे या नहीं?

दिवाली को देखते हुए कुछ ट्रेनों में साधारण टिकट से यात्रा कराने पर भी हो रहा विचार

रेलवे के मुख्य प्रवक्ता कैप्टन शशि किरण के अनुसार राजस्थान के जयपुर, अजमेर, बीकानेर और जोधपुर मंडलों के अलग अलग रूटों पर संचालित हो रही 54 ट्रेनों में साधारण, स्लीपर और थर्ड एसी श्रेणी के 74 कोच की नवंबर के अंत तक अस्थाई बढ़ोतरी की गई है। इससे इन ट्रेनों में 5328 सीटें अतिरिक्त उपलब्ध होंगी। जो यात्रियों के वेटिंग टिकट को कंफर्म और नए टिकटों को सीट उपलब्ध कराने में सहायक होंगी। रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रेलवे दिवाली की भीड़ को देखते हुए कोरोना गाइडलाइंस की पालना करते हुए कुछ ट्रेनों में साधारण टिकट से यात्रा किए जाने की अनुमति पर भी विचार कर रहा है।

हालांकि यह सुविधा त्योहार से तीन-चार पहले ही दी जाएगी और त्योहार के दो से तीन बाद तक लागू रहेगी। रेलवे छोटी दूरी के लिए कुछ अतिरिक्त ट्रेनें संचालित कर सकता है ताकि लंबी दूरी की ट्रेनों में कम दूरी के यात्रियों की भीड़ नहीं हो। जयपुर से हैदराबाद, चेन्नई, मुंबई, पुणे, वाराणसी, पटना सहित करीब छह लंबे रूट पर जयपुर से ट्रेनें 15 अक्टूबर से संचालित होंगी।

अधिकांश ट्रेनें सप्ताह में एक, दो या तीन दिन संचालित की जाएंगी। जब एक फेरे से लौटकर ट्रेन दूसरे फेरे के लिए जाएगी तो उसमें दो दिन का अंतराल होगा। ऐसे में खाली खड़े इन रैक को जयपुर से अजमेर, सवाईमाधोपुर, जोधपुर, कोटा, बांदीकुई, अलवर, रेवाड़ी, सीकर सहित अन्य छोटी दूरी के लिए संचालित किया जाएगा। इसे लेकर जीएम विजय शर्मा जयपुर डीआरएम नरेंद्र, अजमेर डीआरएम नवीन परसुरमका, बीकानेर डीआरएम राजीव श्रीवास्तव और जोधपुर डीआरएम गीतिका पांडे के साथ लगातार बैठक कर रहे हैं।

लखनऊ, कोलकाता, मुंबई की ट्रेनों में तो नो रूम जैसी स्थिति
कानपुर, लखनऊ जाने वाली मरुधर में तो सीटिंग क्लास में वेटिंग टिकट भी नहीं दिए जा रहे हैं। यही हाल, भोपाल, नागपुर, उज्जैन, सूरत, मुंबई, हावड़ा, वाराणसी, अहमदाबाद आदि लंबी दूरी की ट्रेनों में भी है। इन ट्रेनों में स्लीपर और थर्ड एसी में 100 से भी अधिक वेटिंग आ रही है। ऐसे में देखना ये होगा कि क्या त्यौहार पर की जा रही ये व्यवस्थाएं यात्रियों को राहत देंगी भी या नहीं ? वहीं इससे रेलवे के दावों की हकीकत का भी पता चल सकेगा।

खबरें और भी हैं...