झाेटवाड़ा में करणी मेडिकल स्टोर पर कार्रवाई:नशीली दवा की 7050 टेबलेट व 2540 कोडिन फाॅस्फेट जब्त

जयपुर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नारकोटिक्स की टीम ने शुक्रवार को झोटवाड़ा में एक मेडिकल स्टोर के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की - Dainik Bhaskar
नारकोटिक्स की टीम ने शुक्रवार को झोटवाड़ा में एक मेडिकल स्टोर के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की

नारकोटिक्स की टीम ने शुक्रवार को झोटवाड़ा में एक मेडिकल स्टोर के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की। नारकोटिक्स अधिकारियों को काफी मात्रा में प्रतिबंधित दवाओं का स्टाक मिला। टीम ने एक दुकानदार और सप्लायर को गिरफ्तार कर लिया गया। हैरानी की बात नारकोटिक्स की टीम दुकानदार के खिलाफ कार्रवाई के लिए गई कि इसी दौरान सप्लायर भी वहां पहुंच गया। इन दोनों से नशीली दवाओं की पूरी चेन के बारे में पूछताछ की जा रही है। टीम को मेडिकल स्टोर की सर्च में दवाओं का बिल या फिर किसी फर्म की जानकारी नहीं मिली। सप्लायर से भी जांच की तो भारी मात्रा में नशीली दवाएं मिलीं।

टीम ने सप्लायर के मकान पर दबिश दी तो वहां भी भारी मात्रा में प्रतिबंधित दवाएं मिली। टीम ने 7050 नशीली दवाओं की गोलियां और 2540 कोडिन फॉस्फेट की बोतलें बरामद की हैं। इसके पहले टीम ने चार दिन पहले भी मानसरोवर में कार्रवाई की थी। यहां भी गाड़ी में नशीली दवाएं बरामद की गई थी। इस मामले में नारकोटिक्स ने अंतरराज्यीज ड्रग तस्कर धीरज को गिरफ्तार किया था। धीरज के पास दवाओं के अलावा दो-दो आधार कार्ड बरामद हुए थे धीरज के पिता देवेंद्र खंडेलवाल एनडीपीएस एक्ट में तिहाड़ जेल में बंद हैं।

उपनारकोटिक्स आयुक्त विकास जोशी ने बताया कि टीम ने करणी मेडिकल शॉप व जनरल स्टोर बोरिंग रोड झोटवाड़ा स्थित एक दुकान पर दबिश दी। यहां से दुकान संचालक दुकान संचालक उम्मेद सिंह पुत्र कल्याण सिंह निवासी हाथोज राधा बिहारी कालवाड़ रोड झोटवाड़ा को पकड़ लिया। कार्रवाई जारी थी कि तभी एक व सप्लायर विपिन गुप्ता पुत्र पूनमचंद गुप्ता निवासी सनशाइन पाम सीकर रोड पहुंचा। दोनों से पूछताछ के दौरान किसी के पास भी इतनी भारी मात्रा में दवाओं के होने का कोई रिकॉर्ड नहीं मिला।

इसके बाद टीम ने सप्लायर के घर पहुंची तो पूरा गोदाम मिला। यहां से भी दवाओं की जब्ती की गई। इसके बाद टीम ने छापेमारी करते हुए ट्रामाडोल के 1920,अल्प्राजोलम के 5130, कोडिन फॉस्फेट की 2540 बोतलें बरामद हुई हैं। जयपुर अधीक्षक एसके सिंह ने व निरीक्षक एचएल वर्मा, परमवीर सिंह, राजेश बालिया की टीम ने कार्रवाई की। सप्लायर विपिन गुप्ता ने बताया कि उन्हें फोन पर एक व्यक्ति के माध्यम से लीड मिलती है। दवाओं को कहां पर पहुंचाना है। वह इसकी जानकारी सांझा करता है। इसके बाद में विपिन स्टॉक को लेकर दुकानों पर लेकर जाता है।

खबरें और भी हैं...