पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आरएएस 2018 इंटरव्यू:टॉप-16 में सिर्फ 6 के 80+ नंबर, डोटासरा के सभी रिश्तेदारों को 80 से 85 तक

जयपुर/अजमेर7 दिन पहलेलेखक: विनाेद मित्तल/ आरिफ कुरैशी
  • कॉपी लिंक
शिक्षामंत्री गोविंद सिंह डोटासरा(फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
शिक्षामंत्री गोविंद सिंह डोटासरा(फाइल फोटो)
  • शिक्षा मंत्री के 4 रिश्तेदार आरएएस...बेटा-बहू और बहू के भाई-बहन, इंटरव्यू में सब प्रतिभावान
  • टाॅपर मुक्ता के भी इंटरव्यू में 77 अंक, गौरव के लिखित में 379.50 और प्रभा के 366.50

आरएएस भर्ती-2018 फिर विवादों में आ गई है। शिक्षामंत्री गोविंद सिंह डोटासरा की पुत्रवधू के भाई और बहन के आरएएस साक्षात्कार में 80-80 अंक आए हैं, जबकि इसमें टॉप 16 रैंकिंग हासिल करने वालों में सिर्फ 6 ही ऐसे हैं, जिन्हें 80 या उससे ज्यादा नंबर मिले हैं। यही नहीं, आरएएस 2016 में भी डोटासरा के बेटे और बहू को इंटरव्यू में क्रमश: 85 और 80 नंबर मिले थे। वहीं, अगर लिखित परीक्षा के नंबरों से तुलना की जाए, तो पुत्रवधू के अलावा बाकी तीनों के 400 से कम नंबर हैं।

इस बारे में भास्कर से बातचीत में डोटासरा का कहना है कि 300 से ज्यादा बच्चों को इंटरव्यू में 75 से 80 अंक मिले हैं। अगर बच्चे प्रतिभावान हैं तो इसमें मेरा क्या दोष। दरअसल, आरपीएससी की इंटरव्यू प्रक्रिया इसलिए भी सवालों में है, क्योंकि साक्षात्कार के दौरान ही 23 लाख रु. घूस लेकर अच्छे नंबर दिलाने के मामले में कनिष्ठ लेखाकार को गिरफ्तार किया जा चुका है। इसमें आरपीएससी सदस्य राजकुमारी गुर्जर के पति का भी नाम सामने आया है।

ऐसे में अब यह चर्चा चल पड़ी है कि इंटरव्यू प्रक्रिया बंद क्यों न की जाए। खासकर ऐसी परिस्थितियों में जब इंटरव्यू प्रक्रिया का कहीं कोई रिकॉर्ड सार्वजनिक नहीं होता और न ही इस पूरी प्रक्रिया को कहीं चुनौती दी जा सकती है। बता दें कि आरपीएससी में आयोग सदस्यों का लिखित परीक्षा में सीधे तौर पर कोई दखल सामने नहीं आता है लेकिन इंटरव्यू में उनका लगभग एकाधिकार रहता है। आरएएस भर्ती में 800 अंकों के चार लिखित पेपर हुए। इंटरव्यू 100 अंकों का था। 526 अंक लेकर टॉपर रही मुक्ता राव के इंटरव्यू में 77 अंक हैं। जबकि मुक्ता से कहीं नीचे के पायदान पर आए 5 अभ्यर्थियों के 82 नंबर आए हैं।

लाखों अभ्यर्थियों के सपनों का सवाल है...सरकार जांच कर संदेह दूर करे

अजीब इत्तेफाक; आरएएस 2016 के इंटरव्यू में डोटासरा के बेटे को 85 व बहू को 80 नंबर और आरएएस 2018 में बहू के भाई-बहन को 80-80 नंबर मिले

टॉप-16 रैंक में 3 तो ऐसे हैं, जिनके इंटरव्यू में 70 से कम

ये मंत्री के रिश्तेदार, 4 में से 3 के लिखित में 400 से कम

इंटरव्यू के नंबरों से ही यूं ऊपर-नीचे हो जाती है रैंक

  • ​​​​​​​123 नंबर की मेरिट पर आए अभ्यर्थी को लिखित परीक्षा में 417 अंक मिले हैं और इंटरव्यू में उसके 49 अंक हैं। इंटरव्यू में कम अंक लाने के कारण यह अभ्यर्थी लिखित परीक्षा में 413 अंक लाने वाले अभ्यर्थी से ही मेरिट में 100 से ज्यादा स्थान से नीचे आ गया।
  • एक अभ्यर्थी काे लिखित परीक्षा में 410 अंक और इंटरव्यू में 59 अंक हासिल हुए, जिससे यह मेरिट में 102 नंबर पर आ गया। जबकि 417 अंक वाला अभ्यर्थी इंटरव्यू में कम अंक मिलने पर भी 123वें पायदान पर है।
  • 412.50 अंक लिखित में, इंटरव्यू में 48 और मेरिट 159 हो गई।
  • 424 अंक लिखित में, इंटरव्यू में 46 अंक, मेरिट 93 पहुंच गई।
  • 406 अंक लिखित में, इंटरव्यू 73, मेरिट उछलकर 93 हो गई।

इसलिए इंटरव्यू प्रक्रिया सवालों केे घेरे में आई है

  • आरएएस 2018 के साक्षात्कार के दौरान ही अच्छे अंक दिलाने की एवज में 25 लाख रुपए घूस मांगने का मामला एसीबी ने पकड़ा था। इसमें आयोग के कनिष्ठ लेखाकार को गिरफ्तार भी किया गया था। इस मामले में आरपीएससी सदस्य राजकुमार गुर्जर के पति रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी भैरोसिंह की भी भूमिका संदिग्ध पाई गई है।
  • पिछली चार आरएएस भर्तियों को पूरा होने में विवादों के चलते 3-3 साल लग गए। वर्ष 2012 की भर्ती के चयनितों को 2015 में नियुक्ति मिली। 2013 की भर्ती के चयनितों को 2016 में, वर्ष 2016 की भर्ती के चयनितों को 2019 में नियुक्ति मिली। 2018 की भर्ती का परिणाम 2021 में जारी हुआ। चयनितों को अभी नियुक्ति मिलनी बाकी है। आरएएस 2021 की विज्ञप्ति भी जारी हो गई है। देखने वाली बात है कि उसका क्या होता है?
  • आरपीएससी में पॉलिटिकल नियुक्तियों पर भी सवाल उठते रहे।
खबरें और भी हैं...