पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

40 फीट गहरे कुएं में गिरीं, बच गईं मां-बेटी:3 साल के बेटे को घर छोड़ा और एक साल की बच्ची को गोद में लेकर कुएं में कूदी मां; रोने की आवाज सुनी तो लोग जुट गए, रेस्क्यू टीम ने बचाया

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
1 साल की बच्ची राधिका की जान भी बच गई। रेस्क्यू टीम उसे कुएं से बाहर निकालकर लाई तो ग्रामीण उसे दुलारने लगे। पुलिस ने गोद में उठा लिया। - Dainik Bhaskar
1 साल की बच्ची राधिका की जान भी बच गई। रेस्क्यू टीम उसे कुएं से बाहर निकालकर लाई तो ग्रामीण उसे दुलारने लगे। पुलिस ने गोद में उठा लिया।

जयपुर जिले के कोटपूतली कस्बे में वार्ड नंबर 1 में बुधवार को एक महिला ने महज एक साल की बेटी को गोद में लेकर कुएं में छलांग लगा दी। गनीमत रही कि करीब 40 फीट गहरा यह कुआं सूखा था। इसमें नीचे काफी कचरा जमा था। इस वजह से महिला और बच्ची दोनों की ही जान बच गई। हालांकि, उन्हें काफी चोटें आई है। पुराने भट्टे के पास घर से करीब 500 मीटर दूर

वार्ड नंबर 1 में पुराने भट्‌टे के पास यह महिला अपने घर से करीब 500 मीटर दूर इस कुएं में कूदी तो बच्ची की रोने की आवाज सुनकर गांव के लोग इकट्‌ठा हो गए। कुछ ही देर में पुलिस और रेस्क्यू टीम मौके पर पहुंची। फायर ऑफिसर सुरेश यादव खुद कुएं में रेस्क्यू टीम के साथ उतरे और महिला और उसकी बच्ची को स्ट्रेचर से बांधकर रस्सी की सहायता से खींचकर ऊपर ले आए। इसके बाद मां-बेटी को अस्पताल में भर्ती कराया गया।

मां-बेटी की जान बचाने के लिए मदद में उठे स्थानीय लोगों के हाथ। रेस्क्यू टीम का सहयोग करने लगे
मां-बेटी की जान बचाने के लिए मदद में उठे स्थानीय लोगों के हाथ। रेस्क्यू टीम का सहयोग करने लगे

यह है पूरा मामला

23 साल की महिला सुमन मानसिक रूप से कमजोर बताई जा रही है। वह अपने पति दिनेश सैनी के साथ नाहर की ढाणी वार्ड नंबर 1 में रहती है। उनकी 1 साल की बेटी राधिका और साढ़े तीन साल का बेटा ऋषि है। दिनेश सैनी पंचर सुधारने की दुकान करता है। वह बुधवार सुबह अपने काम पर चला गया।

40 फीट गहरे सूखे कुएं में पड़ी मां और उसकी गोद में बेटी
40 फीट गहरे सूखे कुएं में पड़ी मां और उसकी गोद में बेटी

इसके बाद सुमन अपनी बेटी को गोद में लेकर घर से निकली। उसने बेटे को अकेला ही घर के कमरे में छोड़ दिया था। इसके बाद पुराने भट्‌टे के पास पहुंचकर कुएं में कूद गई। गनीमत रही कि बच्ची की रोने की आवाज सुनते ही ग्रामीण वहां आ गए और वक्त पर दोनों को बाहर निकालकर जान बचा ली गई। वरना दोनों मां-बेटी की जिंदगी को खतरा हो सकता था।

फोटो एवं रिपोर्ट: अनिल कौशिक

खबरें और भी हैं...