जयपुर में 25 से 27 नवंबर तक ABVP-राष्ट्रीय अधिवेशन:योगगुरू स्वामी रामदेव-केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान शामिल होंगे

जयपुर7 दिन पहले
जयपुर में 25 से 27 नवंबर तक ABVP-राष्ट्रीय अधिवेशन को लेकर तैयारियां पूरी हो चुकी है।

बीजेपी की स्टूडेंट विंग अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) का 68वां राष्ट्रीय अधिवेशन 25 से 27 नवंबर तक जयपुर के जेईसीआरसी यूनिवर्सिटी कैम्पस सीतापुरा में लगेगा। जिसमें देशभर से 3000 से ज्यादा प्रतिनिधि शामिल होंगे। योगगुरू स्वामी रामदेव इसका उद्घाटन करेंगे। समापन सत्र के दौरान केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान शामिल होंगे। 'मिनी इंडिया' में देशभर की सांस्कृतिक झलक और महापुरुषों की गौरव गाथा इस दौरान देखने को मिलेगी। 5 प्रस्ताव अधिवेशन के दौरान पास किए जाएंगे।

राष्ट्रीय कार्यपरिषद की बैठक में निवर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष छगन भाई पटेल, महामंत्री निधि त्रिपाठी, राष्ट्रीय संगठन मंत्री आशीष चौहान, राष्ट्रीय मंत्री होश्यार मीणा समेत राष्ट्रीय कार्यपरिषद पदाधिकारी शामिल हैं।
राष्ट्रीय कार्यपरिषद की बैठक में निवर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष छगन भाई पटेल, महामंत्री निधि त्रिपाठी, राष्ट्रीय संगठन मंत्री आशीष चौहान, राष्ट्रीय मंत्री होश्यार मीणा समेत राष्ट्रीय कार्यपरिषद पदाधिकारी शामिल हैं।

आज राष्ट्रीय कार्यपरिषद में सालभर के कामों का रिव्यू

अधिवेशन से पहले आज राष्ट्रीय कार्यपरिषद की बैठक बुलाई गई है। जिसमें सालभर के कार्यक्रमों का रिव्यू होगा और अगले साल के कार्यक्रमों पर चर्चा होगी। बैठक में एबीवीपी के निवर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष छगन भाई पटेल, महामंत्री निधि त्रिपाठी और राष्ट्रीय संगठन मंत्री आशीष चौहान, राष्ट्रीय मंत्री होश्यार मीणा समेत पदाधिकारी मौजूद हैं। कल उद्घाटन सत्र में नवनिर्वाचित राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ राजशरण शाही भी मौजूद रहेंगे।

25 नवंबर को उद्घाटन सत्र में मुख्य अतिथि स्वामी रामदेव सम्बोधन देंगे।
25 नवंबर को उद्घाटन सत्र में मुख्य अतिथि स्वामी रामदेव सम्बोधन देंगे।

18 साल बाद राजस्थान में हो रहे अधिवेशन का उद्घाटन 25 नवंबर को योगगुरू स्वामी रामदेव करेंगे। 26 नवंबर को अग्रवाल कॉलेज से अल्बर्ट हॉल तक शोभायात्रा निकाली जाएगी, जिसमें सभी राज्यों की संस्कृति को प्रदर्शित किया जाएगा। जबकि अंतिम दिन 27 नवंबर को समापन सत्र में केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ‘यशवंतराव केलकर युवा पुरस्कार समारोह’ के चीफ गेस्ट होंगे। जेईसीसी सीतापुरा कैम्पस देशभर के विद्यार्थी परिषद के युवा नेताओं के स्वागत के लिए सज-धजकर तैयार हो गया है।

27 नवंबर को समापन सत्र में केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान मुख्य अतिथि होंगे। प्रतिष्ठित प्राध्यापक यशवंत राव केलकर युवा पुरस्कार देंगे।
27 नवंबर को समापन सत्र में केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान मुख्य अतिथि होंगे। प्रतिष्ठित प्राध्यापक यशवंत राव केलकर युवा पुरस्कार देंगे।

अधिवेशन में एबीवीपी पदाधिकारियों के अलावा राजस्थान बीजेपी के ऐसे सांसद, विधायक और नेता भी शामिल होंगे। जो पहले एबीवीपी संगठन में रह चुके हैं। सभी राज्यों के विचारधारा से जुड़े हुए छात्र, शिक्षक और शिक्षाविद् भी अधिवेशन में हिस्सा लेंगे। पार्टिसिपेट्स इस दौरान एजुकेशन फील्ड में बदलावों की मौजूदा स्थिति पर चर्चा करेंगे। एबीवीपी संगठन के टारगेट तय करेंगे। देश के महत्वपूर्ण विषयों पर विचार विमर्श कर 5 प्रस्ताव भी पास करेंगे।

पिंकसिटी जयपुर के हवामहल थीम पर एंट्री गेट बनाया गया है।
पिंकसिटी जयपुर के हवामहल थीम पर एंट्री गेट बनाया गया है।
हवामहल थीम गेट का नाइट व्यू पिंक लाइटिंग के साथ बेहद सुंदर नजर आ रहा है।
हवामहल थीम गेट का नाइट व्यू पिंक लाइटिंग के साथ बेहद सुंदर नजर आ रहा है।

कुल 5 प्रस्ताव पास किए जाएंगे

-शिक्षा संबंधी प्रस्ताव।

-PFI पर भारत सरकार के बैन लगाने पर ABVP का समर्थन ।

- G-20 की भारत को अध्यक्षता के बारे में विश्व‌ को भारतीय मूल्यों की जानकारी देने।

-वैश्विक स्तर पर उभरता भारत।

-पीएम मोदी के नेतृत्व में डवलपमेंट और सबका साथ,सबका विकास।

ये महत्वपूर्ण प्रोग्राम होंगे

-राष्ट्रीय कार्यकारी परिषद की बैठक- 24 नवंबर ।

-अधिवेशन की प्रदर्शनी का उद्घाटन- 24 नवंबर की शाम 6.30 बजे।

-68वां राष्ट्रीय अधिवेशन उद्घाटन- 25 नवंबर, शाम 4.45 बजे, मुख्य अतिथि- योगगुरु स्वामी रामदेव, स्पेशल गेस्ट- राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ राजशरण शाही और राष्ट्रीय महामंत्री याज्ञवल्क्य शुक्ल। सुबह 11.30 बजे स्वावलम्बी भारत और युवाओं की भमिका पर सत्र, वक्ता राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री प्रफुल्ल आंकात।

- जयपुर के अग्रवाल कॉलेज से अल्बर्ट हॉल तक विशाल शोभायात्रा- 26 नवंबर, दोपहर 3.30 बजे से। देशभर से आए एबीवीपी कार्यकर्ता अपने राज्यों की ट्रेडिशनल ड्रेस में हिस्सा लेंगे।

- अल्बर्ट हॉल पर खुला अधिवेशन होगा, जिसमें छात्र नेताओं के भाषण होंगे। वक्ता-राष्ट्रीय महामंत्री याज्ञवल्क्य शुक्ल। 26 नवंबर, शाम 5 बजे।

-प्रतिष्ठित प्राध्यापक यशवंत राव केलकर युवा पुरस्कार समारोह- 27 नवंबर सुबह 11.15 बजे से, मुख्य अतिथि केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, अध्यक्षता- उद्योगपति और समाजसेवी रतन शर्मा।

-महाराष्ट्र के बुलढ़ाणा के युवा समाज सेवी नंदकुमार पालवे को पुरस्कार मिलेगा। निराश्रितों और मानसिक रूप से दिव्यांगों के पोषण-पुनर्वास कार्य के लिए पुरस्कार राशि 1 लाख रुपए और प्रशस्ति पत्र।

अधिवेशन वेन्यू पर महापुरूषों की कई प्रतिमाएं लगाई गई हैं।
अधिवेशन वेन्यू पर महापुरूषों की कई प्रतिमाएं लगाई गई हैं।

मिनी इंडिया के दर्शन होंगे

एबीवीपी के राष्ट्रीय मंत्री होश्यार मीणा ने दैनिक भास्कर से बातचीत में कहा- अधिवेशन के एक अंदर मिनी इंडिया के दर्शन होंगे। यूनिवर्सिटी कैम्पस को महाराणा प्रताप नगर नाम दिया गया है। इसमें बड़ा ऑडिटोरियम बनाकर उसे गुरु तेग बहादुर जी का नाम दिया गया है। मौके पर प्रदर्शनी स्थल को जनजातीय देवता और महान स्वतंत्रता सेनानी गुरु गोविंद का नाम दिया है। जहां राजस्थानी संस्कृति की झलक मुख्य आकर्षण का केंद्र है। प्रदर्शनी स्थल को टांट-बोरी पट्टी पर मिट्टी का लेप करके झोंपड़ी की तरह बनाया गया है। ध्वज मंडप पर ही चित्तौडगढ़ किले की आकृति बनाई गई है। राजस्थान के स्वतंत्रता सेनानियों की प्रदर्शनी की मुख्य थीम रहेगी। एंट्री गेट पर हवा महल और जयपुर के आराध्य देव गोविंद देव जी महाराज की प्रतिमा रहेगी। अधिवेशन स्थल पर कुल 11 महापुरुषों की प्रतिमाएं युवाओं में जोश का संचार करेंगी।कार्यक्रम स्थल पर किसी भी तरह के प्लास्टिक प्रोडकट्स का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा। विद्यार्थी मित्र का नाम गुरु गोविंद सिंह को समर्पित किया गया है। प्रदर्शनी में राजस्थानी संस्कृति की झलक होगी। कच्ची घोड़ी और कठपुतली डांस भी दिखाया जाएगा।

होश्यार मीणा, राष्ट्रीय मंत्री, एबीवीपी ।
होश्यार मीणा, राष्ट्रीय मंत्री, एबीवीपी ।

अधिवेशन में हम पूर्व से पश्चिम तक, उत्तर से दक्षिण तक संपूर्ण भारत का वास्तविक लघु दर्शन करेंगे। यह एक युवाओं का महाकुंभ है। जिसमें देश भर के 3000 प्रतिनिधि भाग लेंगे। यहां स्टॉल भी लगाई गई हैं। जीरो फूड वेस्ट सिस्टम बनाया गया है। कम से कम भोजन वेस्ट में जाए। राजस्थान के वीर महापुरूषों की प्रतिमाएं लगाई गई हैं। जिनसे राजस्थान के इतिहास की जानकारी मिलेगी। अनसंग हीरो का इतिहास और 75 साल की आजादी की वर्षगांठ की प्रदर्शनी लगेगी।

JECRC कैम्पस में टैंट की स्टॉल्स लगाई गई हैं। जिनमें अलग-अलग राज्यों और संस्कृतियों की झलक मिलेगी।
JECRC कैम्पस में टैंट की स्टॉल्स लगाई गई हैं। जिनमें अलग-अलग राज्यों और संस्कृतियों की झलक मिलेगी।

अधिवेशन में नागालैंड, जम्मू कश्मीर के श्रीनगर और लद्दाख के कार्यकर्ता भी अपनी पारंपरिक ड्रेस में मौजूद रहेंगे। अधिवेशन की तैयारी जोरों पर है। 500 से ज्यादा कार्यकर्ता अधिवेशन की तैयारी में जुटे हुए हैं। 26 नवंबर को अग्रवाल कॉलेज से अल्बर्ट हॉल तक शोभायात्रा निकाली जाएगी, जिसमें सभी राज्यों की संस्कृति को प्रदर्शित किया जाएगा।