पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • ACB Gets Court Approval To Take Voice Sample Of Union Minister Gajendra Singh, Minister's Voice Will Be Mixed With Viral Audio Alleging Phone Tapping

सरकार गिराने के षडयंत्र के वायरल ऑडियो मामला फिर गर्माएगा:केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह के वॉयस सैम्पल लेने के लिए ACB को मिली कोर्ट से मंजूरी, फोन टैपिंग के आरोप वाले ऑडियों से मंत्री की आवाज मिलाई जाएगी

जयपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गजेंद्र सिंह शेखावत (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
गजेंद्र सिंह शेखावत (फाइल फोटो)

प्रदेश में पिछले साल सचिन पायलट खेमे की बगावत के बाद गहलोत सरकार गिराने के षडयंत्र के आरोपों और फोन टैपिंग मामले में नया मोड़ आ गया है। केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह के विधायक खरीद फरोख्त की बातचीत के वायरल ऑडियो की आवाज को मिलाने के लिए एसीबी को उनके वॉइस सैम्पल लेने की कोर्ट से मंजूरी मिल गई है।

चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट जयपुर सैकंड ने गजेंद्र सिंह और संजय जैन की वॉइस सैंपल लेने की एसीबी को अनुमति दे दी है। एसीबी ने कोर्ट में पिछले साल ऑडियो की जांच के लिए गजेंद्र सिंह और संजय जैन के वॉयस सैंपल लेने की जरूरत बताई थी। पिछले साल जुलाई में तीन ऑडियो क्लिप वायरल हुई थीं, जिसमें विधायकों की खरीद फरोख्त का दावा करते हुए सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी ने एसओजी में केस दर्ज करवाए थे। एफआईआर में दावा किया गया था कि वायरल ऑडिया में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह और कांग्रेस विधायक भंवरलाल शर्मा के बीच बातचीत है, जिसमें वे विधायकों खरीद फरोख्त की बातें कर रहे थे।

एसओजी में एफआर लगी, एसीबी में मामले की जांच जारी
महेश जोशी की एफआईआर के आधार पर संजय जैन, विधायक भंवरलाल शर्मा और गजेंद्र सिंह के खिलाफ केस दर्ज किया गया था। संजय जैन और कुछ अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया था। उस वक्त बाड़ेबंदी के दौरान एसीबी और एसओजी की टीम गजेंद्र सिंह और भंवरलाल शर्मा के बयान और सैंपल लेने मानेसर और दिल्ली गई थी। बाद में एसओजी ने मामले में एफआार लगा दी, लेकिन एसीबी में जांच जारी है।

वॉयस सैम्पल देने को तैयार गजेंद्र सिंह
कांग्रेस नेता गजेंद्र सिंह पर वॉयस सैम्पल नहीं देने को लेकर लगातार निशाना साधते रहे हैं। पिछले दिनों गजेंद्र सिंह शेखावत कह चुके हैं कि वे मांगे जाने पर वॉयस सैम्पल देने को तैयार हैं। अब कोर्ट की मंजूरी मिलने के बाद एसीबी फिर से गजेंद्र सिंह के पास वॉयस सैम्पल लेने जाएगी।

फोन टैपिंग के आरोपों की दिल्ली क्राइम ब्रांच कर रही जांच
गजेंद्र सिंह ने वायरल ऑडियो को आधार बनाकर राजस्थान सरकार पर फोन टैपिंग का आरोप लगाते हुए दिल्ली पुलिस में मामला दर्ज करवाया थ। गजेंद्र सिंह की एफआईआर पर दिल्ली क्राइम ब्रांच मामले की जांच कर रही है। इस मामले में मुख्यमंत्री के ओएसडी समेत पुलिस अफसरों को आरोपी बनाया गया है। पिछले दिनों सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी को क्राइम ब्रांच ने नोटिस देकर पूछताछ के लिए बुलाया था लेकिन जोशी पेश नहीं हुए।

खबरें और भी हैं...