अब आगे बढ़ रहीं महिलाएं:प्रदेश में 37% महिला डॉक्टर, CA में इनकी हिस्सेदारी 25%; लेकिन वकालत में सिर्फ 17% महिलाएं

जयपुर9 महीने पहलेलेखक: गोवर्धन चौधरी
  • कॉपी लिंक

महिलाएं अब आगे बढ़ रहीं हैं। हर सेक्टर में वह अपनी जगह बना रहीं हैं। अगर राजस्थान की बात की जाए तो प्रदेश में कुल डॉक्टरों में 37% महिलाएं हैं। वहीं, अगर सीए की बात की जाए तो महिलाओं की हिस्सेदारी 25% है। वहीं, वकालत में महिलाओं की भागीदारी 17 प्रतिशत है।

शुरुआत में बैंकिंग और टीचर्स में महिलाओं का इंटरेस्ट ज्यादा रहता था। लेकिन अब वह धीरे-धीरे हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहीं हैं। राजस्थान न्यायिक सेवा से मजिस्ट्रेट और जज के पदों पर तो महिलांए 30 फीसदी के आंकड़े को पार कर रही हैं। लेकिन वकालत के मामले में अब तक उन्हें वह भागीदारी नहीं मिली है। न्यायिक सेवा के उच्च पदों पर भी महिलाओं की संख्या कम है।

प्रदेश में 87849 हजार कुल प्रैक्टीशनर वकील हैं। उनमें महिला वकीलों की संख्या 15759 है। इस तरह वकालत में महिलाओं की भागीदारी अब भी 17% के आसपास है। राजस्थान हाईकोर्ट की वरिष्ठ वकील सुनीता सत्यार्थी का कहना है कि बार काउंसिल ऑफ राजस्थान, हाईकोर्ट बार काउंसिल, बार सोसिएशन में अब तक कोई महिला वकील अध्यक्ष नहीं बनी है। वकील कोटे से अब तक कोई महिला हाईकोर्ट में जज नहीं बनी है। न्यायिक सेवा में तो महिलाओं को आरक्षण है इसलिए वहां अच्छी भागीदारी है।

प्रदेश में क्षेत्रवार महिलाओं की भागीदारी का गणित:

सेक्टरकुलमहिलाएंप्रतिशत
चार्टर्ड एकाउंटेंट18000450025
टैक्स कंसल्टेंट80010012.5
डॉक्टर16000600037.5
एडवोकेट878491575918

वे 3 महिलाएं, जिन्होंने आपदा को अवसर में बदला:पति की नौकरी छूटी तो मास्क बेचकर परिवार को पाला, किसी ने मुश्किल वक्त में खड़ा किया बिजनेस

खबरें और भी हैं...